जानें गाय और भैंस में से किसका दूध है सेहत के लिए बेहतर और क्यों

दूध कैल्शियम का एक उत्कृष्ट स्रोत है, जो मज़बूत हड्डियों और दांतों के लिए बेहद ज़रूरी है। स्वस्थ और फिट रहने के लिए डॉक्टर हर दिन दूध पीने की सलाह देते हैं, लेकिन जब आपको गाय और भैंस के दूध के बीच किसी एक को चुनना हो, तो कौन-सा बेहतर है? वैसे तो, दोनों तरह के दूध में कुछ अच्छी तो कुछ बुरी चीज़ें हैं। तो, आइए जानते है कि दोनों के बीच प्रमुख अंतर क्या है?

वसा
वसा वास्तव में दूध की स्थिरता के लिए ज़िम्मेदार होती है। गाय के दूध में भैंस के दूध की तुलना में वसा की मात्रा कम होती है। यही वजह है कि भैंस का दूध गाय के दूध से ज़्यादा गाढ़ा होता है। गाय के दूध में 3-4 प्रतिशत वसा मौजूद होती है, वहीं, भैंस के दूध में 7-8 प्रतिशत होती है। भैंस का दूध पेट के लिए भारी होता है, इसलिए उसे पचने में समय लगता है और इसे पीने पर आपको काफी देर तक भूख नहीं लगती।

पानी
पानी हर व्यक्ति के लिए ज़रूरी होता है और इसलिए अगर आपको अपने शरीर में पानी की मात्रा बढ़ानी है तो गाय का दूध पीना शुरू कर दें। गाय के दूध में 90 प्रतिशत पानी होता है और आपके शरीर को हाइड्रेट करने के लिए बिल्कुल सही है।

प्रोटीन
गाय के दूध की तुलना में भैंस के दूध में 10-11 प्रतिशत प्रोटीन मौजूद होता है। प्रोटीन की अधिक मात्रा के कारण ही भैंस का दूध छोटे बच्चों और बूढ़े लोगों को पीने की सलाह नहीं दी जाती।

कोलेस्ट्रॉल
इन दोनों तरह के दूध में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा भी अलग होती है। भैंस के दूध में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है, इसलिए ये उन लोगों के लिए बेहतरीन साबित होता है जो PCOD, हाइपरटेंशन, किडनी की समस्या और मोटापे से जूझ रहे हैं।

कैलोरी
ज़ाहिर है भैंस के दूध में कैलोरी ज़्यादा होती है, क्योंकि इसमें प्रोटीन और फैट की मात्रा ज़्यादा होती है। एक कप भैंस के दूध में 237 कैलोरी होती है, वहीं एक कप गाय के दूध में 148 कैलोरी होती है।

इसके अलावा…

– अगर आप रात को सुकून की नींद चाहते हैं तो भैंस का दूध पिएं, इससे आपको अच्छी नींद आएगी ।

– खोया, दही, खीर, पायसम, मलाई, कुल्फी और घी बनाने के लिए भैंस के दूध को बेहतर माना जाता है।

– क्योंकि गाय का दूध ज़्यादा गाढ़ा नहीं होता इसलिए इसका मिठाई बनाने के लिए उपयोग किया जाता है।

,
Shares