CORONA VIRUS: चीन में अब तक 80 लोगों की मौत, 2700 से अधिक संक्रमित

 

 

चीन में कोरोना वायरस खतरनाक रूख अख्तियार करता जा रहा है. सोमवार तक कोरोना वायरस की चपेट में आने से 80 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 2,700 से अधिक मामले सामने आए हैं.

चीनी स्वास्थ्य मंत्री मा शियाओवेई ने कहा कि कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है और ये 14 दिन के अंदर एक इंसान से दूसरे इंसान को संक्रमित कर रहा है.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने कहा कि कोरोना वायरस से अभी तक 2,744 लोग संक्रमित हैं. संक्रमित लोगों में से 461 गंभीर हालत में हैं. चीन के 34 में से कम से कम 25 प्रांतीय खंडों में स्वास्थ्य का उच्चतम आपातकाल घोषित कर दिया गया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, कोरोना वायरस के मरीज को जुकाम के साथ-साथ बुखार और थकान, सूखी खांसी और सांस लेने में परेशानी होती है.

चीन में इसके खिलाफ कठोर कदम उठाए जाने के कारण डब्ल्यूएचओ ने इसे अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य आपातकाल घोषित नहीं करने का निर्णय लिया है. कोरोना वायरस के खिलाफ महामारी के केंद्र हुबेई प्रांत में दर्जन भर शहरों में और उनके आसपास यातायात पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है और चीनी नववर्ष उत्सवों को रद्द कर दिया है.

मध्य चीन के हूपेइ प्रांत के वूहान शहर में नए कोरोनो वायरस निमोनिया प्रकोप के बाद देश में प्रकोप ग्रस्त क्षेत्रों को सहायता देने के लिए देश के दूसरे क्षेत्रों से अनेक चिकित्सक दल भेजे गए हैं. यहां तक कि दूसरे देशों के चिकित्सीय विशेषज्ञ भी चीन की सहायता करने के लिए आए हैं.

जर्मन विशेषज्ञों ने इनहिबिटर्स लेकर चीन में प्रकोप-रोधी काम करना शुरू किया. उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस आत्म-सीमित है. इसलिए जब लोगों के शरीर में पर्याप्त एंटीबॉडी विकसित होते हैं, तब वायरस के निरंतर प्रसार को सीमित किया जा सकेगा.

उन्होंने आम लोगों से छुट्टियों में घर में रहने की सलाह दी और भीड़-भाड़ जगहों पर मास्क पहनना चाहिए. उधर ह्वाजूंग विज्ञान और तकनीक विश्वविद्यालय के तहत तूंगची अस्पताल के डॉक्टर क्वो वई ने कहा कि श्वसन संक्रमण रोकने की हमारी कोशिश से बीमारियों को जल्द ही नियंत्रित किया जा सकेगा.

चीन के हूनान प्रांत, सछ्वान प्रांत और च्यांगसू प्रांत के चिकित्सक दल प्रकोप से ग्रस्त हूपेइ प्रांत पहुंच गए. सछ्वान प्रांत के चिकित्सक दल के प्रधान चाओ जूंग ह्वेई ने कहा कि वूहान शहर की सहायता करना हमारे चिकित्सकों की जिम्मेदारी है.

उधर शंघाई शहर के ह्वाशान अस्पताल के उप प्रधान मा शी ने कहा कि उन्होंने वसंत त्योहार की छुट्ठियों को भी छोड़ दिया है और वे प्रकोप ग्रस्त क्षेत्रों की सहायता करने के लिए तैयार हो चुके हैं. जब कोई महामारी आती है, तो डॉक्टरों को हमेशा अग्रिम पंक्ति पर खड़े रहना चाहिए.

,
Shares