भाजपा ने एनआरसी लागू किया आधार बना ‘थाली में पोहा खाना’:

भोपाल, 24 जनवरी 2020,

मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष अभय दुबे ने जारी एक बयान में बताया कि देश के गृह मंत्री अमित शाह जी ने पहले ही क्रोनोलाॅजी समझाते हुए यह स्पष्ट किया था कि पहले सिटीजन अमंेडमेंट एक्ट (सीएए) आयेगा उसके बाद एनआरसी लागू किया जायेगा। आज देश के गृह मंत्री जी के निकटस्थ भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय जी ने देश का पहला एनआरसी किया है और उसका आधार बना है ‘थाली में पोहा खाना।’
श्री विजयवर्गीय ने जिस तरह थाली में पोहा खाने वाले को बंग्लादेशी करार दिया है, उससे स्पष्ट होता है कि भाजपा देश के नागरिकांे में भाषा, खान-पान और पहनावे के आधार पर विभेद पैदा करना चाहती है, ताकि वे अपनी राजनैतिक रोटियां सेंक सकें। भाजपा कभी नेशनल रजिस्ट्रर आॅफ अनएम्पलाईमेंट की बात नहीं करेगी, वे कभी देश की भीषणतम आर्थिक बदहाली पर चर्चा नहीं करेंगे। देश के डूबते उद्योगजगत को कैसे उबारा जाये, इस पर कभी बात नहीं करेंगे। भाजपा देश को तोड़कर अपनी सत्ता की रोटियां सेंकना चाहती है। देश भर में भाजपा का सीएए को लेकर प्रदर्शन का भी एक मात्र उद्देश्य है, देश में साम्प्रदायिक धु्रवीकरण करना।
अफसोसजनक तो यह है कि जिस शहर से कैलाश विजयवर्गीय जी आते हैं, वह देश का सबसे बड़ा पोहा पसंद शहर है। तो क्या भाजपा इंदौर की आधी से अधिक आबादी को विदेशी करार देगी, जो रोज पोहा खाते हैं?
एक तरफ देश के प्रधानमंत्री कहते हैं कि एनआरसी नहीं लागू किया जाएगा, कौन भ्रम फैला रहा है, दूसरी ओर देश के गृह मंत्री जी एनआरसी लागू करने की बात करते हैं, वहीं भाजपा के महासचिव उनसे आगे बढ़कर एनआरसी को लागू कर देते हैं।
भाजपा के शीर्षस्थ नेता बार-बार खुद को आतंकियों का भय बताकर सिर्फ सहानुभूति बटोरने का खेल खेल रहे हैं। अगर कैलाश विजयवर्गीय जी को सचमुच चिंता थी तो उन्होंने देश के गृह मंत्री जी को इससे अवगत क्यों नहीं कराया, क्यों अब तक कोई एफआईआर नहीं करायी?

,
Shares