दुखी, पीड़ित लोगों को शरण देना हमारी संस्कृति रही हैः गोपाल भार्गव

नेता प्रतिपक्ष  गोपाल भार्गव ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी देश के नवनिर्माण में लगे हैं। लेकिन कांग्रेस और विपक्षी दल को देश का विकास रास नहीं आता। इन लोगों का एकमात्र काम सरकार को गाली देना, देश के गद्दारों को सम्मानित करना और अफजल, कसाब के समर्थन में नारे लगाना है। प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी का विरोध करते-करते यह लोग देश हित के निर्णयों का भी विरोध कर रहे हैं। यह वहीं लोग हैं जो आतंकियों को जी शब्द का संबोधन करना ही अपनी बौद्धिक प्रगति समझते हैं। उन्होंने कहा कि हमें यह समझना होगा कि एक साजिश के तहत भारत की अस्मिता पर हमला करने के लिए काम हो रहा है। हमें इन लोगों का जवाब जनता के बीच जनजागरण के माध्यम से करना है। उन्होंने कहा कि दुखी, पीड़ित लोगों को शरण और सुरक्षा देने की हमारी पुरातन संस्कृति रही है। उसी को आगे बढ़ाते हुए पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक आधार पर यातनाएं झेल रहे अल्पसंख्यकों की रक्षा करना और उन्हें नागरिकता देना भारत का कर्त्तव्य है। प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री  अमित शाह जी उसी कर्त्तव्य को पूरा कर रहे हैं।

,
Shares