कोरोना वायरस से सचेत रहें, घबराए नहीं, सावधानियाँ ही इसका उपचार

 

 

*कोरोना वायरस से सचेत रहें, घबराए नहीं*

*सावधानियाँ ही इसका उपचार*

इंदौर 5 फरवरी, 2020,

कोरोना वायरस से संबंधित प्रकरण चीन के हुबई प्रांत के वुहान क्षेत्र में पॉजिटिव पाये गये हैं। इसके अतिरिक्त 20 अन्य देश (जापान, दक्षिण कोरिया , वियतनाम, सिंगापुर, आस्ट्रेलिया, मलेशिया, कम्बोडिया, थाईलैंड, नेपाल, श्रीलंका, संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, संयुक्त अरब अमीरात, हांगकांग, मकाऊ, फिलीपिंस, ताईवान, एवं फिनलैंड) में भी इसके प्रकरण पॉजिटिव पाये गये हैं। इस बीमारी से भारत में भी केरल राज्य से 3 प्रकरणों की पुष्टि हुई है।

इंदौर में इस बीमारी से बचाव के लिये व्यापक स्तर पर प्रबंध किये गये हैं। प्रभावित देशों से यात्रा करने वाले यात्रियों से अनुरोध है कि वे मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में बनाये गये कंट्रोल रूप में पर फोन नम्बर 0731-2537253 पर सूचना दें तथा इसके लिये राज्य शासन से जानकारी प्राप्त करने के लिये टोल फ्री नम्बर 104 पर भी फोन कर सकते हैं। जिले में चिन्हित किये गये 18 निजी चिकित्सालयों तथा जिला अस्पताल, एम.वाय. चिकित्सालय, पीसी सेठी अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र- बाणगंगा पर भी प्रभावित यात्री अपनी जांच करवा कसते हैं। इसके अरिरिक्त यात्री कहीं और अस्तपाल में जाकर अपनी जांच करवाते हैं, तो उनसे अनुरोध है कि जनहित में तुरंत स्वास्थ्य विभाग के कंट्रोल रूप नम्बर 0731-2537253 पर सूचना दें।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया है कि कोरोना वायरस से भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। अत्यंत आवश्यक होने पर ही चीन या प्रभावित देशों में यात्रा करें, व्यक्तिगत साफ-सफाई का ध्यान रखें, बार-बार साबुन व पानी से अच्छी तरह से हाथ धोयें, खांसते-छींकते समय मुंह पर कपड़ा व रूमाल रखें। यदि प्रभावित देशों में आने वाले यात्रियों को कोई लक्षण नहीं दिखाई देते हैं, तो वे घर पर 14 दिन तक आराम करें। विभाग द्वारा ऐसे यात्रियों को तुरंत परामर्श तथा सलाह दी जा रही है कि वे समाज के हित में ऐसे कदम उठाएँ, जिससे कि अन्य लोगों का स्वास्थ्य प्रभावित न हो और सभी ऐसे समय भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें। तेज बुखार, खांसी, श्वास में तकलीफ आदि लक्षण दिखाई देने पर तुरंत शासकीय चिकित्सालय में जाकर संपर्क करें तथा चिकित्सकों की सलाह लें।

ऐसे मरीजों के सेम्पल जांच के लिये नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरलॉजी पुणे भेजे जा रहे हैं। वर्तमान में कोरोना वाययरस का कोई टीका एवं इलाज उपलब्ध नहीं है। सावधानियां ही इसका उपचार है।

,
Shares