कोरोना वायरस:दुनिया के लिए खतरा घोषित करने पर विचार

 

 

चीन में अब तक कोरोना वायरस के 600 मामले सामने आ चुके हैं। 17 लोगों की मौत हो गई है। गुरुवार सुबह वुहान से बाहर जाने वाली सभी उड़ानों और ट्रेनों को बंद कर दिया गया था। चीन के अधिकारियों ने हुआनगांग और इझोऊ में भी यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया है। दोनों शहरों में पब्लिक ट्रांसपोर्ट और ट्रेनें रोक दी गई है। लोगों को बिना कारण घर से निकलने से मना किया गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) प्रमुख टेड्रॉस एडहेनम गेब्रेयीसुस ने बुधवार को कहा कि समस्या को दुनिया के लिए खतरा (ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी) घोषित किया जाए या नहीं, इस पर विचार कर रहे हैं।

वुहान से बाहर आखिरी उड़ान गुरुवार को ऑस्ट्रेलिया गई। सभी यात्री मास्क पहने हुए थे। यात्रियों ने कहा कि उनसे स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा पूछताछ की गई। उन्हें कोरोना वायरस के लक्षणों के बारे में जानकारी दी गई। ऑस्ट्रेलिया के चीफ मेडिकल ऑफिसर ब्रेंडन मर्फी ने कहा कि किसी यात्री के बीमार होने की खबर नहीं है।

चीन में भारतीय दूतावास ने एडवाइजरी जारी की

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर हम सतर्क हैं। चीन में हमारे दूतावास ने भी एडवाइजरी जारी की है। आने वाले लोगों को स्क्रीनिंग प्रॉसेस से गुजरना होगा। बाकी वहां रहने वाले भारतीयों को सतर्क रहने के लिए कहा गया है।

वुहान शहर में 31 दिसंबर को पहला मामला सामने आया

यातायात बंद किए जाने पर डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा कि इस कदम से चीन न केवल अपने देश में वायरस के प्रकोप को नियंत्रित करेगा, बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी फैलने की आशंका कम करेंगे। चीन में हजारों लोग इसकी चपेट में हैं। कोरोना वायरस का पहला केस वुहान शहर में 31 दिसंबर को मिला था। कोरोनो वायरस एसएआरएस (सीवियर एक्यूट रेसिपिरेटरी सिंड्रोम-सार्स) जैसा होने के कारण खतरा बना हुआ है।

सार्स वायरस से 2002-2003 में चीन और हॉन्गकॉन्ग में लगभग 650 लोग मारे गए थे। कोरोना को भी सार्स वायरस की श्रेणी में ही रखा गया है। इससे बचाव के उपाय भी किए जा रहे हैं, लेकिन अब तक वायरस के सोर्स का पता नहीं चल पाया है।

एयरपोर्ट्स, बस अड्डे, ट्रेन में भी लोगों की जांच

चीन में न्यू ईयर मनाने के लिए इस हफ्ते लाखों लोगों आना-जाना करेंगे। इसे देखते हुए राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने एयरपोर्ट्स, बस अड्डों, ट्रेनों में लोगों की जांच की जा रही है। बीजिंग, शंघाई और चोंगकिंग के साथ ही उत्तर पूर्व, मध्य और दक्षिण चीन से भी कोरोना वायरस के मामले सामने आए हैं। जापान, मकाऊ, दक्षिण कोरिया, ताइवान, थाईलैंड और अमेरिका में भी इसके मामले मिले।

देशों में सामने आए मामले:

देश मामले मौत
चीन 571 17
थाईलैंड 4 0
जापान 0 0
मकाऊ 1 0
जापान 1 0
दक्षिण कोरिया 1 0
ताइवान 1 0
अमेरिका 1 0
माना जा रहा है कि वायरस जानवर से फैला है
अमेरिका के 5 हवाई अड्डों पर थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है। लंदन से मॉस्को तक के हवाई अड्डों पर भी जांच की जा रही है। डब्ल्यूएचओ ने पुष्टि की है कि प्रभावित लोगों के संपर्क में आने पर यह फैल सकता है। माना जा रहा है कि जानवर से यह वायरस फैला। चीन के रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के निदेशक गाओ फू ने कहा कि हम पहले से ही जानते हैं कि बीमारी एक ऐसे जगह से पनपी, जहां अवैध तरीके से जंगली जानवरों की खरीद-बिक्री होती है।

वुहान में 1300 से 1700 लोग संक्रमित

हॉन्गकॉन्ग और ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि वुहान में 1300 से 1700 लोग संक्रमित हो सकते हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों ने लोगों से आग्रह किया है कि वे नियमित रूप से हाथ धोएं, भीड़भाड़ वाली जगहों से बचें, ताजी हवा लें और खांसी होने पर मास्क पहनें। खांसी या बुखार होने पर अस्पताल जाएं। स्थानीय सरकार ने महत्वपूर्ण सार्वजनिक गतिविधियों को रद्द कर दिया है। 3-9 फरवरी को होने वाली महिला ओलिंपिक फुटबॉल क्वालिफाइंग मैच को पूर्वी शहर नानजिंग में स्थानांतरित कर दिया गया है।

,
Shares