एक माह से कटनी जिले में घूम रहे बाघ को रेस्क्यू कर भेजा गया संजय टाइगर रिजर्व

भोपाल : रविवार, मार्च 8, 2020, 

 

क्षेत्र संचालक बाँधवगढ़ टाइगर रिजर्व  विंसेट रहीम के नेतृत्व में एक माह से कटनी जिले में मानव बस्तियों के पास घूम रहे बाघ को कल रेस्क्यू कर संजय टाइगर रिजर्व भेज दिया गया। लगभग दो-ढाई साल की उम्र वाला यह बाघ पूर्णत: स्वस्थ है। संजय टाइगर रिजर्व में इसे बाड़े में रखा जायेगा। इसके व्यवहार का अध्ययन करने के बाद विशेषज्ञों की सलाह पर आगे निर्णय लिया जायेगा।

उल्लेखनीय है कि कटनी की झिरिया रोपनी में 1 मादा बाघ की 4 संतानों में से एक शावक वर्ष 2018 में कुएं में गिर कर घायल हो गया था, जिसे रेस्क्यू कर मुकुंदपुर ले जाया गया। शेष 3 शावकों में से वयस्क हो रहा नर बाघ अपनी मां से अलग होकर नई टेरिटरी की तलाश में घूम रहा था। इस क्रम में यह कटनी से 12 किलोमीटर तक सरसवाही पहुंच गया। दुर्घटनावश इसने एक ग्रामीण महिला को मार दिया और 2 व्यक्तियों को घायल कर दिया। इसके बाद यह मानव बस्तियों के आसपास ही प्रायः देखा जाने लगा।

मानव बाघ द्वंद की संभावनाओं के कारण इसे रेस्क्यू करने का निर्णय लिया गया। सात मार्च को सुबह से बाघ की सघन तलाश जारी हुई।  क्षेत्र संचालक बांधवगढ़  विंसेंट रहीम की उपस्थिति में शाम 4.15 बजे बाघ को ढूंढ लिया गया और तत्काल प्रभारी सहायक वन्य जीव चिकित्सक डॉ अभय सेंगर द्वारा वाइल्ड लाइफ कंजर्वेशन ट्रस्ट के पशु चिकित्सक डॉ हिमांशु के साथ हाथी पर जाकर बाघ को सफलतापूर्वक dart किया तथा टी पी एफ की टीम द्वारा बाघ को स्ट्रेचर पर लादकर रेस्क्यू पिंजरे में डाल दिया गया। सम्पूर्ण कार्यवाही डेढ़ घंटे में व्यवस्थित और व्यावसायिक दक्षता के साथ पूर्ण की गई। बाघ को संजय टाइगर रिजर्व हेतु रवाना किया गया।

रेस्क्यू की कार्यवाही में क्षेत्र संचालक बांधवगढ़  विंसेंट रहीम के अतिरिक्त उप संचालक सिद्धार्थ गुप्ता,वनमण्डल अधिकारी कटनी  राजेश राय, बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के सहायक संचालक  अनिल शुक्ला, अंकित पांडे, कटनी के उपवनमंडल अधिकारी  बघेल, परिक्षेत्र अधिकारी धमोखर  विजय श्रीवास्तव, परिक्षेत्रअधिकारी  शैलेन्द्र तिवारी,  बाजवा, पशु चिकित्सक  विनय पांडे तथा बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व और कटनी वनमण्डल के कर्मचारी सम्मिलित हुए।

,
Shares