MP:गणतांत्रिक व्यवस्थाओं को मजबूत बनाने का संकल्प लें प्रदेशवासी:

 

 

भोपाल : रविवार, जनवरी 26, 2020,

राज्यपाल  लालजी टंडन ने 71वें गणतंत्र दिवस पर लाल परेड मैदान में आयोजित राज्य-स्तरीय समारोह में प्रदेशवासियों का आव्हान किया है कि प्रदेश में गणतांत्रिक व्यवस्थाओं को मजबूत बनाने का संकल्प लें। उन्होंने कहा कि प्रदेश की प्रगति और आम आदमी के जीवन स्तर को बेहतर बनाने के प्रयासों में राज्य सरकार का सहयोग करें।  टंडन ने समारोह में ध्वजारोहण कर परेड का निरीक्षण किया और सलामी ली।  टंडन ने प्रदेशवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं दी और संविधान सभा के सदस्यों का पुण्य स्मरण किया।

राज्यपाल  टंडन ने कहा कि युवाओं को भविष्योन्मुखी और रोज़गारपरक शिक्षण के लिए प्रदेश में ग्लोबल स्किल पार्क की स्थापना की जा रही है। संभागीय मुख्यालयों के आई.टी.आई. संस्थानों को मेगा आई.टी.आई. में उन्नत किया जा रहा हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में सामूहिक नल-जल योजना के माध्यम से स्वच्छ पेय जल आपूर्ति के कार्य किए जा रहे है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में 40 लाख आवासहीन परिवारों के लिए आवास की आवश्यक अधोसंरचना का भी विकास किया जाएगा। शहरी क्षेत्रों में आवास मिशन के आवासहीनों को किराए पर मकान मिलेंगे, जिनका 15 साल तक किराया देने के बाद मकान हितग्राही का हो जाएगा। राज्यपाल ने बताया कि गौवंश को आश्रय देने के लिए प्रदेश में एक हजार गौशालाएँ बनाई जा रही हैं। प्रत्येक गौशाला के साथ 5 एकड़ के चारागाह भी विकसित किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि गौ-शाला के लिए चारा-भूसा का दैनिक अनुदान तीन रूपये से बढ़ाकर 20 रूपये प्रति गौवंश किया गया है।

राज्यपाल ने कहा कि आदिवासियों के कल्याण के लिये वनाधिकार अधिनियम के निरस्त दावों पर समयबद्धता के साथ पुनर्विचार किया जा रहा है। एक माह में ऐसे सभी प्रकरणों पर अंतिम निर्णय ले लिया जायेगा। तेंदूपत्ता संग्राहकों की मजदूरी दर में वृद्धि कर इसे दो हजार से बढ़ाकर ढ़ाई हजार रुपये प्रति मानक बोरा किया गया है। उन्होंने बताया कि अनुसूचित जाति और आदिवासियों के विकास पर जनसंख्या के मान से ही उचित बजट का आवंटन होगा।

राज्यपाल ने बताया कि शहरी क्षेत्रों में मूलभूत और आधुनिक सुविधाओं के लिए मुख्यमंत्री अधोसंरचना विकास योजना के तृतीय चरण को मंजूरी दी गई है। लोगों को रोज़गार के अवसर मिलें, इसके लिए प्रदेश को विश्व-स्तरीय पर्यटन स्थल की पहचान दिलाने के प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि चिकित्सा शिक्षा में एम.बी.बी.एस. तथा पी.जी. कोर्स में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में सेवा को अनिवार्य किया गया है।

गणतंत्र दिवस के राज्य-स्तरीय समारोह में बड़ी संख्या में जन-प्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक, शासकीय अधिकारी-कर्मचारी और स्कूली बच्चे शामिल हुए।

राज्यपाल ने ध्वजारोहण के बाद गणतंत्र दिवस परेड का निरीक्षण कर सलामी ली। हर्ष फायर के बीच पुलिस बैण्ड दल ने उपनिरीक्षक श्री सुनील कटारे के निर्देशन में  ‘‘जन गण मन’’ की धुन बजाई। राज्यपाल ने प्रदेशवासियों के नाम संदेश का वाचन किया।

आकर्षक परेड का प्रदर्शन

हर्ष फायर के बाद पुलिस बैंड की मधुर धुन के बीच आर्कषक संयुक्त परेड निकली। परेड का नेतृत्व भारतीय पुलिस सेवा के वर्ष 2016 बैच के अधिकारी एवं नगर पुलिस अधीक्षक जबलपुर  अमित तोलानी ने किया। परेड टू-आई सी. का दायित्व उप पुलिस अधीक्षक ग्वालियर  प्रशांत भदौरिया ने निभाया। संयुक्त परेड में शामिल मध्यप्रदेश विशेष सशस्त्र बल की टुकड़ी का नेतृत्व  7 वी वाहिनी एसएएफ के निरीक्षक  प्रदीप पाण्डेय ने किया। इसी तरह एस.टी.एफ टुकड़ी का नेतृत्व निरीक्षक अजय पाराशर, जिला पुलिस बल एवं शासकीय रेल पुलिस (पुरूष) टुकड़ी का निरीक्षक  जहीर खान, हॉक फोर्स टुकड़ी का निरीक्षक श्री विजय मेहरा, विशेष सशस्त्र बल, जिला बल व शासकीय रेल पुलिस की संयुक्त महिला टुकड़ी का सुश्री रीना सिंह ठाकुर, मध्यप्रदेश होमगार्ड टुकड़ी का कपंनी कमांडरश्री शरद चंद्र राय, जेल विभाग टुकड़ी का सुश्री हिमानी मनवारे, गुजरात रिजर्व पुलिस बल टुकड़ी का निरीक्षक  एम.ए.मकरानी, भूतपूर्व सैनिकों टुकड़ी का सेवानिवृत्त कर्नल  कपिल भामा, वन विभाग टुकड़ी का रेंज ऑफीसर श्री सुनील वर्मा, एन.सी.सी. आर्मी विंग (बॉयज) टुकड़ी का सीनियर अंडर ऑफीसर  गजेन्द्र सिंह, एन.सी.सी नेवल विंग टुकड़ी का कैडेट कैप्टन श्री योगेश विश्वकर्मा, एन.सी.सी.एयर विंग टुकड़ी का सीनियर अंडर ऑफीसर श्री विकास साहू,  सीनियर डिवीजन एन.सी.सी. आर्मी विंग गर्ल्स टुकड़ी का सीनियर अंडर ऑफीसर सुश्री सृष्टि बिहारे, स्काउट्स(बॉयज) टुकड़ी का कमांडर श्री कार्तिकेय नुन्हरिया, गाइड (गर्ल्स) टुकड़ी का कमांडर सुश्री रूमेजा जेहरा, शौर्य दल टुकड़ी का कमांडर सुश्री शिवानी साहू, पुलिस बैंड का उपनिरीक्षक सुनील कटारे एवं श्वान दल का नेतृत्व उपनिरीक्षक  उग्रभान सिंह बघेल ने किया।

स्कूली बच्चों की आकर्षक सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ

       संयुक्त परेड के बाद विभिन्न स्कूलों के विद्यार्थियों और संस्कृति विभाग के रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इसमें शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय गोविंदपुरा, के बच्चों ने ‘मुठ्ठी में कुछ सपने लेकर जी भर के जिऊँ में आशाएँ, दिल में है अरमान ये ही कुछ कर जाएं-कुछ कर जाएं’ गीत पर नृत्य प्रस्तुति दीं। उसके बाद देहली पब्लिक स्कूल नीलबड़ के 170 छात्र-छात्राओं ने सेना के बहादुर जवानों के त्याग और बलिदान पर आधारित नृत्य प्रस्तुत किया। इस मौके पर भोपाल के सात शासकीय विद्यालयों द्वारा समवेत नृत्य प्रस्तुती दी गई, जिसमें भारतीय नृत्य शैली भारतनाट्यम और कत्थक को समाहित किया गया। स्कूली छात्रों की प्रस्तुति के बाद गोंड जनजाति के सुप्रसिद्ध लोकनृत्य भड़म और गुदुमबाजा की आकर्षक प्रस्तुती दी गई।

विकास योजनाओं पर 25 विभागों की झांकियाँ

गणतंत्र दिवस समारोह में उद्यानिकी, अनुसूचित जाति विकास, अध्यात्म, आदिम जाति कल्याण, किसान कल्याण, खेल एवं युवा कल्याण, गृह, जल संसाधन, जेल, नगरीय विकास एवं आवास, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा, निर्वाचन आयोग, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, पर्यटन, पशुपालन, महिला एवं बाल-विकास, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, वन, सहकारिता, सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम, स्कूल शिक्षा तथा श्रम विभाग की झांकियाँ निकाली गई।

पुरस्कृत

संयुक्त परेड में सर्वोत्तम प्रदर्शन के लिये आर्मड फोर्स केटेगिरी में हॉकफोर्स के दस्ते को प्रथम तथा गैर आर्मड फोर्स केटेगिरी में सीनियर डिवीजन एनसीसी आर्मी विंग गर्ल्स को प्रथम पुरस्कार प्रदान किया गया। इसी प्रकार सांस्कृतिक कार्यक्रमों में सात विद्यालयों की समवेत प्रस्तुति को प्रथम, शासकीय कन्या उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय को द्वितीय तथा देहली पब्लिक स्कूल नीलबड़ को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया। शासकीय विभागों की झांकियों में प्रथम पुरस्कार मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय की झांकी को, द्वितीय पुरस्कार जेल विभाग तथा तृतीय पुरस्कार गृह विभाग की झांकी को प्रदान किया गया।

,
Shares