MP: 3353 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे, गोल्डन बुक ऑफ रिकार्ड्स में शामिल

मुख्यमंत्री कन्या विवाह निकाह एवं दिव्यांग विवाह प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत गुरुवार को छिंदवाड़ा के पुलिस ग्राउंड में सामूहिक विवाह सम्मेलन हुआ। जिसमें एक साथ 3353 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे।

गोल्डन बुक ऑफ रिकार्ड्स ने विश्व रिकार्ड माना

इसे गोल्डन बुक ऑफ रिकार्ड्स ने विश्व रिकार्ड मानकर शामिल कर लिया। मौके पर ही संस्था की टीम ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को यह प्रमाण पत्र प्रदान किया। इस दौरान सांसद नकुलनाथ भी मौजूद थे।

114 दिव्यांग जोड़े भी शामिल हुए

इन जोड़ों में 114 दिव्यांग जोड़े भी शामिल थे। सम्मेलन में वर-वधु पक्ष के एक लाख से अधिक लोगों ने भागीदारी की। सम्मेलन में आदिवासी समाज के जोड़ों के विवाह उनकी पद्धति से कराए गए।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि युवा पीढ़ी सामाजिक कुरीतियों को खत्म कर भारतीय मूल्यों और संस्कारों को आत्मसात करे। उन्होंने कहा कि हमारे देश के अस्तित्व के लिए यह जरूरी है। कमलनाथ गुरुवार को छिंदवाड़ा में सभी धर्मों और दिव्यांगजनों के सामूहिक विवाह सम्मेलन में शामिल होने पहुंचे थे। इस सम्मेलन में एक साथ 3 हजार 353 जोड़ों का विवाह संपन्न कराया गया। इतनी बड़ी संख्या में हुए विवाह को गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल किया गया।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि आज का यह सम्मेलन भारत का विविध संस्कृति का प्रतीक है। यहां हिन्दू, मुस्लिम, बौद्ध परंपरओं के साथ ही दिव्यांगजन भी परिणय सूत्र में बंधने जा रहे है। उन्होंने कहा कि यही संस्कृति हमारी सबसे बड़ी शक्ति है जो भारत को पूरे विश्व में महान राष्ट्र बनाती है। उन्होंने कहा कि विभिन्न धर्मों, जातियों, भाषाओं के साथ भाईचारे की भावना से एकजुट रहने की हमारी यह विशेषता अक्षुण्ण बनी रहे यह दायित्व युवा पीढ़ी का है।

छिंदवाड़ा में सामूहिक विवाह समारोह में गोल्डन बुक ऑफ रिकॉर्ड की टीम पहुंची थी, जिसने पूरे विवाह कार्यक्रम पर नजर रखी। इसके बाद टीम के भारतीय प्रतिनिधि ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को रिकॉर्ड बनाने का प्रमाणपत्र मंच पर जाकर सौंपा।

,
Shares