coronavirus:डॉक्टर, नर्सों, पैरामेडिकल स्टाफ के बारे में सोचिए: प्रधानमंत्री


मोदी ने कहा- यह धैर्य और अनुशासन की घड़ी है। जब तक देश में लॉकडाउन की स्थिति है, हमें अपना संकल्प और अपना वचन निभाना है। मेरी आपसे हाथ जोड़कर प्रार्थना है कि घरों में रहते हुए आप उन लोगों के बारे में सोचिए, उनके बारे में मंगलकामना कीजिए, जो अपना संकल्प निभाने के लिए अपनी जान खतरे में डालकर काम कर रहे हैं। डॉक्टर, नर्सों, पैरामेडिकल स्टाफ के बारे में सोचिए। ये लोग एक-एक जीवन बचाने के लिए अस्पताल में काम कर रहे हैं। अस्पताल प्रशासन के लोग, एम्बुलेंस के ड्राइवर, सफाई कर्मचारियों के बारे में सोचिए जो दूसरों की सेवा कर रहे हैं। आपकी सोसाइटी, सड़कों, मोहल्लों को साफ करने वालों के बारे में सोचिए। आपको सही जानकारी देने के लिए 24 घंटे काम कर रहे मीडिया के लोगों के बारे में भी सोचिए जो संक्रमण का खतरा उठाकर सड़कों पर, अस्पतालों में हैं। पुलिसकर्मियों के बारे में सोचिए जो घर-परिवार की चिंता किए बिना आपको बचाने के लिए ड्यूटी कर रहे हैं। कई बार कुछ लोगों की गुस्ताखी के शिकार भी हो जाते हैं। कोरोना वैश्विक महामारी से बनी स्थितियों के बीच केंद्र और राज्य सरकारें तेजी से काम कर रही हैं। रोजमर्रा की जिंदगी में लोगों को असुविधा ना हो, इसके लिए कोशिश कर रही हैं।

,
Shares