Budget 2020: कृषि और ग्रामीण क्षेत्र के लिए 2.83 लाख करोड़ की धनराशि

नई दिल्ली, 01 फरवरी, केंद्र सरकार ने कृषि क्षेत्र एवं ग्रामीण विकास पर जोर देते हुए  वित्त वर्ष 2020-21 के लिए  2.83 लाख करोड़ की धनराशि के प्रावधान का ऐलान किया है।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को लोकसभा में वित्त वर्ष 2020-21 का आम बजट पेश करते हुए कहा कि केंद्र सरकार वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुना करने के लिए संकल्पबद्ध है और इस दिशा में तेजी से काम कर रही है। उन्होंने किसानों की आय बढ़ाने  के लिए  उठाए जाने वाले कदमों का जिक्र करते हुए कहा कि किसानों की आय कृषि के अलावा मत्स्य पालन, मधुमक्खी पालन, पशुपालन और नई-नई प्रौद्योगिकी के जरिए बढ़ाई जाएगी ।

इसके साथ ही उन्होंने जल्द खराब होने वाले कृषि उत्पादों को समय से मंडी तक पहुंचाने के लिए वातानुकूलित ‘किसान रेल’ सेवा शुरु करने का ऐलान किया।

उन्होंने अपने बजट भाषण में कहा कि वर्ष 2025 तक दूध प्रसंस्करण क्षमता को दोगुना कर इसे 10.80 करोड़ किया जाएगा। इसके साथ ही सरकार मत्स्य पालन क्षेत्र में रोजगार को बढ़ावा देने के लिए ‘सागर मित्र’ योजना शुरू करेगी। इस योजना में ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं को खास तवज्जो दी जाएगी ताकि उन्हें रोजगार हासिल हो सके। वित्तमंत्री ने कहा कि किसानों की खाली और बंजर जमीन पर सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने के लिए सरकार मदद मुहैया कराएगी ।

Budget 2020:नए दशक का पहला बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि हमारी सरकार किसानों की आय 2022 तक दोगुना करने को लेकर प्रतिबद्ध है. किसानों के लिए नए बाजार को खोलने की जरूरत है, ताकि उनकी आय को बढ़ाया जाएगा. किसानों के लिए वित्त मंत्री ने अपने बजट भाषण में 16 सूत्री योजना का ऐलान किया.

बजट में किसानों के लिए फोकस करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि हमारी सरकार की ओर से किसानों के लिए कई बड़ी योजनाओं को लागू किया गया है. सरकार की ओर से कृषि विकास योजना को लागू किया गया है. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत करोड़ों किसानों को फायदा पहुंचाया गया.

किसानों के लिए बजट में 16 सूत्री योजना

1. Agricultural land leasing act 2016, Produce life stock act 2017, Services facilitation 2018 को राज्य सरकारों द्वारा लागू करवाना.

2. पानी की कमी को देखते हुए 100 जिलों में पानी की व्यवस्था के लिए बड़ी योजना चलाई जाएगी, ताकि किसानों को पानी की दिक्कत ना आए.

3. पीएम कुसुम स्कीम के जरिए किसानों के पंप को सोलर पंप से जोड़ा जाएगा. इसमें 20 लाख किसानों को योजना से जोड़ा जाएगा. इसके अलावा 15 लाख किसानों के ग्रिड पंप को भी सोलर से जोड़ा जाएगा.

4. उर्वरता बढ़ाने पर फोकस रखा जाएगा और इसलिए रासायनिक खादों के इस्तेमाल को कम किया जाएगा. रासायनिक खादों का संतुलित इस्तेमाल करने को लेकर जानकारी दी जाएगी.

5. देश में मौजूद वेयरहाउस, कोल्ड स्टोरेज को नाबार्ड (NABARD) अपने अंडर में लेगा और नए तरीके से इसे डेवलेप किया जाएगा. देश में और भी वेयरहाउस, कोल्ड स्टोरेज बनाए जाएंगे. इसके लिए PPP मॉडल अपनाया जाएगा.

6. महिला किसानों के लिए धन्य लक्ष्मी योजना का ऐलान किया गया, जिसके तहत बीज से जुड़ी योजनाओं में महिलाओं को मुख्य रूप से जोड़ा जाएगा.

7. दूध, मांस, मछली समेत जल्द खराब होने वाली चीजों को खराब होने से बचाने के लिए वातानुकुलित ‘किसान रेल’ कोच चलाए जाएंगे.

8. कृषि उड़ान योजना को शुरू किया जाएगा. इंटरनेशनल, नेशनल रूट पर इस योजना को शुरू किया जाएगा.

9. बागवानी क्षेत्र में सुधार में बात कही. बागवानी के किसानों के लिए जिला स्तर पर योजना लाई जाएगी. बागवानी क्षेत्र में 311 मिलियन मीट्रिक टन की वर्तमान में पैदावार है और अब इसके बेहतर विपणन निर्यात के लिए एक उत्पाद एक जिले की व्यवस्था होगी.

10. एकीकृत कृषि प्रणाली मधुमक्खी पालन पर जोर होगा.

11. किसान क्रेडिट कार्ड योजना को 2021 के लिए बढ़ाया जाएगा.

12. दूध के प्रोडक्शन को दोगुना करने के लिए सरकार की ओर से योजना चलाई जाएगी. 2025 तक दुग्ध उत्पादन दोगुना (108 मिलियन मैट्रिक टन) करने का लक्ष्य.

13. मनरेगा के तहत चारागार को जोड़ दिया जाएगा.

14. ब्लू इकॉनोमी के जरिए मछली पालन को बढ़ावा दिया जाएगा. फिश प्रोसेसिंग को बढ़ावा दिया जाएगा.

15. युवा और मत्स्य विस्तार पर भी काम किया जाएगा. 3077 सागर मित्र बनाए जाएंगे. तटवर्ती इलाकों के युवाओं को रोजगार मिलेगा.

16. किसानों को दी जाने वाली मदद को दीन दयाल योजना के तहत बढ़ाया जाएगा. जीरो बजट नेचुरल फार्मिंग को भी मजबूत कर किसानों को प्रेरित करेंगे.
अरुण जेटली को याद किया

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण की शुरुआत में कहा कि लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की सरकार को बहुमत मिला. 2019 के लोकसभा चुनाव नतीजे हमारी नीतियों पर मिले जनादेश हैं. लोगों ने हमारी सरकार पर भरोसा जताया है, ये देश की आकांक्षाओं का बजट है.

अपने दूसरे बजट भाषण में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, ‘जीएसटी को बनाने वाले आज हमारे साथ नहीं हैं, मैं अरुण जेटली जी को श्रद्धांजलि देती हूं. देश के लोगों की सेवा के लिए हमारी सरकार ने एक देश एक टैक्स कानून लागू करने का फैसला लिया. जीएसटी का कलेक्शन लगातार बढ़ रहा है और हाल ही में इसने 1 लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा पार किया है.’

बजट से पहले सेंसेक्स और निफ्टी में चढ़ा

इससे पहले आम बजट आने से पहले घरेलू शेयर बाजार में आज शनिवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 76 अंक से ज्यादा तक चढ़ा और निफ्टी में शुरुआती कारोबार में गिरावट दर्ज की गई. मजबूत विदेशी संकेतों तथा बजट में सरकार की ओर से देश की आर्थिक विकास को रफ्तार देने की उम्मीदों से भारतीय शेयर बाजार में तेजी का माहौल बना हुआ था.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के दूसरे बजट भाषण को सुनने के लिए संसद भवन में उनके अंकल, भाई और बेटी पहुंचे. निर्मला सीतारमण देश की पहली महिला वित्त मंत्री हैं, जिन पर पूर्ण रूप से वित्त मंत्रालय का कार्यभार है. उन्होंने आज अपना दूसरा बजट पेश किया.

,
Shares