52 लाख की ठगी करने वाले गिरोह का सायबर क्राइम ने किया पर्दाफास , रिलायंस टॉवर लगवाने के नाम पर ठगे थे रूपये

 

राज्य सायबर क्राइम पुलिस ग्वालियर के द्वारा एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाष किया गया है जो कि फर्जी कम्पनी के माध्यम से ऑनलाइन लोगो को रिलायंस टॉवर लगवाने के नाम पर धोखाधडी करते थे।
फरियादी शषांक स्वामी पुत्र श्री पी0एन0 शर्मा निवासी 586 आनंद नगर बहोडापुर ग्वालियर के द्वारा दिनांक 26.10.16 को राज्य सायबर क्राइम ग्वालियर में षिकायत दर्ज कराते हुए बताया कि किसी अज्ञात व्यक्ति के द्वारा मेरे मोबाइल नंबर पर फोन आया जिसमे उसने स्वयं को रिलायंस कम्पनी का अधिकारी बताया, और उस अज्ञात व्यक्ति को असली रिलायंस अधिकारी समझकर उसने मुझसे रिलायंस टॉवर लगवाने की बात कही, व रिलायंस टॉवर लगवाने के नाम पर विभिन्न खातो के माध्यम से मुझसे 52,24,723/- रूपये खाते में धोखधडी कर अपने आप को रिलायंस अधिकारी बताकर हडप लिये गये।
फरियादी शषंाक स्वामी की प्राप्त षिकायत पर सायबर क्राइम ग्वालियर द्वारा तत्काल कार्यवाही करते हुए अपराध क्रमांक 144/16 धारा 420 भादवि 66डी आईटी एक्ट का प्रकरण पंजीबद्ध किया। फरियादी द्वारा दिये गये संदेही खातो की जानकारी सायबर क्राइम पुलिस द्वारा प्राप्त की गई। विवेचना के दौरान यस बैंक के आई.एम.डी सर्विसेस खाता धारक अमित कुमार के नाम से संदेही खाते की जानकारी सायबर पुलिस को प्राप्त हुई। उपलब्ध साक्ष्यो व प्राप्त जानकारी के आधार पर संदेही आरोपी अमित कुमार के पते लक्ष्मीनगर दिल्ली पर जाकर जब तलाषी पतारसी की गई तो पता चला कि उक्त पते पर अमित कुमार नाम का कोई भी व्यक्ति नही रहता है। उपलब्ध साक्ष्यो में से प्राप्त यस बैंक द्वारा प्रदाय कि जानकारी में से आई.एम.डी सर्विसेस के सभी दस्तावेज फर्जी पाये गये।
उक्त अपराध की विवेचना हेतू उप पुलिस अधीक्षक आर0पी0 मिश्रा सायबर क्राइम ग्वालियर के द्वारा प्र0आर0 हरनारायण षर्मा, दयाषंकर कुषवाह, पवन षर्मा , आर0 महेष पाराषर, राधारमन त्रिपाठी, पुष्पेन्द्र यादव की टीम बनाई । उक्त गठित टीम द्वारा दिल्ली जाकर अपराध में प्राप्त संदही आरोपीयांे की पुनः तलाषी पतारसी की गई तो पाया गया कि यस बैंक में आई.एम.डी सर्विसेस के नाम से फर्जी खाता खुलवाया गया था। जिसको असिस्टेंट मैनेजर सौरभ कुमार द्वारा सत्यापित किया गया था। आरोपी सौरभ कुमार वर्तमान में आई.डी.एफ.सी बैंक में एस.ओ. के पद पर काम कर रहा था। प्रकरण में फर्जी कम्पनी आई.एम.डी के खाता खुलवाने हेतु दस्तावेजो को चार्टर एकाउंटेड विनोद कुमार द्वारा तैयार किया गया था। आरोपी विनोद कुमार द्वारा आषीष षाह चार्टर एकाउंटेड के नाम से फर्जी सील का उपयोग कर फर्जी दस्तावेज तैयार करता था। दिनांक 22.03.17 को उक्त दोनो आरोपियो को थाना सकरपुर, दिल्ली क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया तथा अपराध मे उपयोग फर्जी सामग्री को जप्त किया ।

विस्तृत जानकारी आरोपी:- उक्त आरोपी गिरोह द्वारा अन्य और भी लोगो को रिलायंस टॉवर लगवाने के नाम पर ठगा था।
1. आरोपी – सौरभ कुमार पुत्र श्री पूरन सिंह उम्र 32 निवासी ग्राम कांतर जिला कासगंज यूपी का रहने वाला है तथा वर्तमान में इन्द्रापुरम गाजियाबाद में रहता है तथा बी.एस.सी से स्नातक डिग्री प्राप्त है व वर्तमान मे आई.डी.एफ.सी बैंक मे एस.ओ. के पद पर कार्यरत है।
2. आरोपी – विनोद कुमार पुत्र श्री गगन देव षाह उम्र 25 साल निवासी ग्राम दुहोसुहो पोस्ट पकरिया थाना छावडादानु मोतीहारी, चम्पारण बिहार का रहने वाला है तथा वर्तमान में सकरपुर थाना क्षेत्र दिल्ली मे रहता है जो कि बी.कॉम से स्नातक प्राप्त कर सी.ए का प्रषिक्षण प्राप्त है।
नोटः- यह उल्लेखनीय है कि आजकल टॉवर लगाने के नाम पर कई फर्जी कॉल किये जा रहे है। जिसमे फर्जी कम्पनी के अधिकारी बताकर भिन्न-भिन्न खाते में रूपये डलवा लिये जाते है। सायबर क्राइम द्वारा निरंतर मीडिया/ न्यूजपेपर के माध्यम से अलर्ट जारी किये जा रहे है। अतः कोई भी कम्पनी के झूठे लालच में आकर किसी को भी अपने खाते से संबंधित गोपनीय जानकारी न बताये ।

,
Shares