सेक्स स्कैंडल में फंसा बसपा प्रत्याशी गिरफ्तार, भेजा गया जेल

फैजाबाद, 07 मार्च । सेक्स स्कैंडल व गैंगरेप में फंसे अयोध्या से बसपा प्रत्याशी बज्मी सिद्दीकी को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल की राह दिखा दी। दूसरी ओर पीड़िता की कटी हुई जीभ का आज पुलिस ने जिला चिकित्सालय में मेडिकल परीक्षण कराया गया। पीड़िता और उसके परिवार की सुरक्षा के लिए उसे पुलिस बल दिया गया है। गौरतलब है कि मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय में रेप आरोपी के वकील ने सोमवार को दरखास्त दे सरेंडर करने की अनुमति मांगी थी। इस दरखास्त पर कोर्ट ने कोई निर्णय नहीं लिया था। रेप आरोपी द्वारा न्यायालय में समर्पण करने की आशंका के मद्देनजर कचेहरी परिसर में वर्दीधारी और सादी पोशाक में बड़ी संख्या में पुलिस लगा दिये गये थे। पुलिस चौकसी के कारण सरेंडर करने पहुंचा बज्मी सिद्दीकी जब अपने उद्देश्य मे सफल नहीं हो पाया तो वह सीधे कैंट थाना चला गया और अपने आप को पुलिस के हवाले कर दिया। रीड़गंज निवासी मकसूद सिद्दीकी के पुत्र बज्मी को कैंट पुलिस जिला चिकित्सालय ले आयी और मेडिकल परीक्षण कराने के बाद सीजेएम कोर्ट पर उसे हाजिर कर दिया। आरोपी के अधिवक्ता ने कोर्ट से दरखास्त की कि 11 मार्च को विधान सभा चुनाव की मतगणना होनी है इसलिए मतगणना के दौरान प्रत्याशी बज्मी सिद्दीकी को वहां मौजूद रहने की अनुमति दी जाय। कैंट थानाध्यक्ष ने बताया कि गैंगरेप के सारे आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं केवल रईस उर्फ बोतल अभी फरार है और एक दो दिन मे उसे भी गिरफ्तार कर लिया जायेगा। बताते चलें कि कोतवाली नगर में शहर के मोहल्ला पुरानी सब्जी मण्डी निवासिनी मुस्लिम महिला शमा (काल्पनिक नाम) ने कोतवाली नगर में तहरीर दी थी कि बसपा नेता बज्मी सिद्दीकी रात्रि लगभग 11 बजे अपने 7 अन्य साथियों के साथ उसके घर पहुंचे, दरवाजा खुलवाया और परिवार के लोगों को मारपीट कर बंधक बना लिया। पीड़िता का कहना है कि उसे बुरी तरह पीटा गया तथा जीभ काट लेने की कोशिश की गयी। दबंगों ने उसे धर दबोचा तथा कई लोगों ने उसके साथ दुराचार किया। उस पर दबाव डाला जा रहा था कि पूर्व में लिखवाई गई रिपोर्ट व कायम मुकदमा को वापस ले। दबंगो ने उसे जान से मारने की धमकी दी है। पीड़िता ने तहरीर में इसका भी उल्लेख किया है कि रमजान के पाक महीने में उसका कथित पति और बसपा नेता बज्मी सिद्दीकी उसे लेकर लखनऊ गये थे और दो बार बसपा नेता ने उसके साथ जबरन शारीरिक सम्बन्ध बनाया था। इसके बाद उसे गोवा ले जाने की बात कही जा रही थी जब वह नहीं तैयार हुई तो उसके कथित पति और कुछ अन्य ने घर में घुसकर मारापीटा था जिसकी रिर्पोट दर्ज करायी गयी थी इस मामले में कथित पति को तो पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया परन्तु विवेचना में बसपा नेता बज्मी सिद्दीकी का नाम निकाल दिया गया था। कोतवाली नगर पुलिस ने पीड़िता की तहरीर के आधार पर मु.अ.स. 171/17 आईपीसी की धारा 147, 323, 504, 506, 354 ख, 376, 452, 342 के तहत मुकदमा दर्ज कर पीड़िता का मेडिकल जिला चिकित्सालय में करवाया। प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुलिस ने नामजद रीड़गंज निवासी मो. परवेज पुत्र इदरीस, पुरानी सब्जी मण्डी निवासी अब्दुल रहमान, चांद पुत्र मो. खाले, गफ्फार पुत्र रसूलबक्स, तरवेज पुत्र स्व. हमीद उल्ला व इस्मालगंज तकिया निवासी प्रवीन कुमार सिंह पुत्र सुरेश नाथ सिंह को गिरफ्तार कर लिया और जेल भेज दिया था। मुख्य आरोपी बसपा नेता बज्मी सिद्दीकी व उसका साथी पुरानी सब्जी मण्डी निवासी मो. सुलेमान उर्फ बोतल पुलिस पकड़ से बाहर थे। इस मामले में गिरफ्तारी के लिए एसएसपी अनन्तदेव के सख्त रूख के कारण पुलिस, एसटीएफ व खुफिया विभाग सक्रिय हो गया था।

,
Shares