शिवपाल बोले, समाजवादियों की नहीं घमण्ड की हार

लखनऊ, 11 मार्च । प्रदेश में विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रचण्ड बहुमत की ओर बढ़ चुकी है और सूबे में समाजवादी पार्टी की सरकार जानता पूरी तरह से तय हो चुका है। मतगणना के रूझानों से उत्साहित भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में जहां होली और दीवाली एक साथ मनायी जा रही है, वहीं दूसरी सपा मुख्यालय में मायूसी का माहौल है। नेताओं और कार्यकताओं की उम्मीद टूट चुकी है और वह कुछ भी कहने से बच रहे हैं। इस बीच सपा के वरिष्ठ नेता शिवपाल यादव ने सनसनीखेज बयान देते हुए कहा कि यह समाजवादियों की हार नहीं, घमण्ड की हार है। उन्होंने कहा कि नेताजी को हटाया गया और हमारा अपमान किया गया। उन्होंने सामने आ रहे रूझान को लेकर कहा कि यह जनता का निर्णय है, स्वीकार करना ही होगा। सपा में अखिलेश राज के बाद से शिवपाल हाशिये पर चल रहे हैं। उन्होंने चुनाव के दौरान पहले भी कहा था कि वह 11 मार्च को बोलेंगे। अब पार्टी की करारी हार के बाद वह खुलकर अखिलेश यादव के सामने आ गए हैं। वहीं सूबे की सत्ता गंवाने की स्थिति साफ होने के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पांच कालीदास मार्ग स्थित अपने सरकारी आवास पर पहुंचे। उनके साथ कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र चौधरी भी थे। इस दौरान प्रमुख सचिव नवनीत सहगल को भी बुलाया गया। अखिलेश यादव कुछ देर बाद राज्यपाल रामनाईक को अपना इस्तीफा सौंप सकते हैं। वहीं कांग्रस नेता राजीव शुक्ला ने कहा कि हम जनादेश का सम्मान करते हैं, लेकिन विकास की राजनीति हार गई और वोटबैंक की राजनीति की जीत हुई। 

,
Shares