राष्ट्रगान के सम्मान के साथ कोई समझौता नहीं किया जा सकता: सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली । केंद्र सरकार ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में कहा कि राष्ट्रगान के सम्मान के साथ कोई समझौता नहीं किया जा सकता है। ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि सुप्रीम कोर्ट को इस मामले में आदेश देना पड़ रहा है। आज सुप्रीम कोर्ट ने सिनेमाघरों में फिल्म शुरू होने से पहले दिव्यांगों को खड़ा न होने की छूट दे दी है । सुप्रीम कोर्ट ने आज राष्ट्र गान और राष्ट्रीय गीत संसद, विधानसभा, सरकारी दफ्तरों और स्कूलों में चलाने के मसले पर केंद्र​ को नोटिस जारी किया है।

आपको बता दें कि वकील और बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय ने जनहित याचिका दायर कर मांग कर कहा है कि भारत राज्यों का एक एसोसिएशन या कांफेडरेशन नहीं है बल्कि ये राज्यों का एक संघ है । यहां एक राष्ट्रीयता(भारतीय), एक राष्ट्रगान(जन गण मन), एक राष्ट्रीय गीत( वंदे मातरम् ) और एक राष्ट्रीय झंडा (तिरंगा ) है । इन तीनों का सम्मान करना हर भारतीय का कर्तव्य है ।

उन्होंने याचिका में कहा है कि सरकार को संविधान की प्रस्तावना के मुताबिक देश की एकता और अखंडता के अलावा हर व्यक्ति की सम्मान की रक्षा के लिए भाईचारे को बढ़ावा देना चाहिए ।

,
Shares