महिलाओं को सशक्त बनाने हर कदम उठाएगी सरकार: सीएम शिवराज

भोपाल/सागर, 04 मार्च । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को सागर जिले के गढ़ाकोटा में रहस महोत्सव-2017 और आजीविका जिला-स्तरीय महिला सम्मेलन में शिरकत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि गरीबों को आवास उपलब्ध करवाने के लिए इस माह तीन लाख गरीबों के खाते में आवास निर्माण की राशि जारी की गयी है और अगले छह माह में छह लाख और आवासों की राशि दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रदेश में महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए सरकार हर वह कदम उठायेगी जो उन्हें सशक्त और आत्म निर्भर बनायें। राज्य सरकार महिला स्व-सहायता समूह को आगे बढ़ाने उसे आन्दोलन का रूप देगी। बैंकों के माध्यम से कम ब्याज दर पर ऋण सहायता मुहैया करवायी जायेगी, समूह के जरिए महिलाओं को सशक्त बनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि इन समूहों के भाई बहनों के पास कोई ना कोई काम जरूर हो, ताकि बेरोजगारी मिट जायें। बहनों के पास पैसे आयेंगे तो वे सही अर्थो में आत्म-निर्भर होगीं और उन्हें आगे बढऩे का अवसर मिलेगा। उन्होंने कहा मुद्रा बैंक योजना भारत सरकार ने चलाई है, जिसके तहत ऋण दिलाया जायेगा। चौहान ने मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना में बेटियों से योजना का लाभ उठाने को कहा। उन्होंने बताया कि बैंक से लोन लेने पर सरकार गारंटी देगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी गरीब प्रतिभावान छात्र पैसे की कमी के कारण उच्च शिक्षा से वंचित नहीं होगा। उन्होंने कहा गरीब परिवार के प्रतिभावान छात्रों को इंजीनियरिंग, मेडीकल, आईआईटी, आईआईएम जैसे महँगे पाठ्यक्रमों की शिक्षा के लिए सरकार ने बजट में प्रावधान किया है। उन्होंने बहनों से कहा कि वे अपने बेटा-बेटियों को पढ़ायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में हर भूमिहीन को मकान का स्थाई पट्टा दिया जायेगा। हर गरीब को आवास के लिये जमीन का प्रबंधन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना, मुख्यमंत्री ग्रामीण आवास योजना, ग्रामीण विकास आवास मिशन के जरिये हमारा लक्ष्य है कि किसी भी गरीब को बिना मकान के नहीं रहने दिया जाये। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में मौजूद बहनों से पूछा कि आवास का पैसा पंचायत के खाते में डाला जाना चाहिये या सीधे गरीब के खाते में, बहनों ने जोर से कहा हितग्राही के खाते में डाला जायें। उन्होंने कहा मासूम के साथ दुराचार करने वाले को फांसी हो, इसका प्रावधान कर भारत सरकार को भेजा जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि माँ नर्मदा तट पर बसे गाँव में आगामी वर्ष से शराब की दुकानें नहीं खोली जायेगी। उन्होंने कहा सरकार नशामुक्ति की दिशा में काम कर रही है। उन्होंने सभी से इसमें सहयोग का आह्वान किया। चौहान ने इस दौरान मौजूद लोगों को नशामुक्ति का संकल्प दिलाया। मुख्यमंत्री ने कहा धीरे-धीरे पूरे प् नशामुक्ति की तरफ ले जाना है। यह तब होगा जब पीना छोड़ेगें, गाँव-गाँव में नशामुक्ति सम्मेलन आयोजित किये जायेंगे। इस अभियान में सबको मिलकर प्रयास करना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा प्रदेश में नगर पालिका, नगर निगम, पंचायतों में बहनों के लिए आधी सीटें आरक्षित कर दी गई हैं। अब प्रदेश में 56 प्रतिशत बहनें पंचायतों में विकास की भागीदारी निभा रही हैं। उन्होंने कहा वन विभाग को छोड़कर अन्य विभागों में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण दिया जायेगा। सरकार महिला सशक्तिकरण के लिए हर जरूरी कदम उठायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा सागर जिले में 78 हजार 173 परिवार स्व-सहायता समूह से जुड़ गये हैं। यह समूह दूध, सिलाई, आगरबत्ती, वर्मी कम्पोस्ट सहित अन्य गतिविधियों में जुड़े हैं। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि स्व-सहायता समूह सक्रिय बने, कागजी न रहें। उन्होंने होशंगाबाद और बैतूल जिले के स्व-सहायता समूह का उल्लेख करते हुए कहा कि इन दो जिले के समूहों का वार्षिक टर्न 300 करोड़ रूपये है, जबकि प्रदेश के अन्य सभी जिलों का टर्न ओवर मिलाकर 600 करोड़ है। उन्होंने इन दोनों जिलों के स्व-सहायता समूहों द्वारा किये जा रहे कार्यो का उल्लेख भी किया। मुख्यमंत्री ने उद्यानिकी व्यवसायिक शिक्षण संस्थान गढ़ाकोटा तथा बालक छात्रावास भवन का लोकार्पण किया। पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा सामाजिक न्याय मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि राज्य में अजीविका योजना शुरू की गई है। मध्यप्रदेश सरकार महिलाओं को स्वावलंबी बनाने की दिशा में लगातार काम रही है। उन्होंने फेसबुक इंडिया की महिलाओं के सशक्तिकरण का उल्लेख करते हुए कहा कि हमारी सरकार सजग है और लगातार बहनों के विकास और आत्म निर्भरता के लिए काम कर रही है। श्री भार्गव ने महिलाओं से परिवार में मद्यपान रोकने को कहा। भार्गव ने कहा कि शराब बंदी के लिए जो भी पंचायत या गाँव आगे आयेगा, उन्हें सरकार विकास के लिए विशेष सहायता देगी।

,
Shares