मध्य प्रदेश में कृषि महोत्सव 15 अप्रैल से

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को राजधानी भोपाल स्थित मंत्रालय में आगामी 14 और 15 अप्रैल से शुरू होने जा रहे ग्रामोदय से भारत उदय अभियान और कृषि महोत्सव की तैयारियों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को हर गाँव में जल का कम से कम एक स्त्रोत विकसित करने या जीवित करने पर ध्यान देने के निर्देश दिये। उन्होंने ग्रामीण महिलाओं के स्वसहायता समूहों को आर्थिक रूप से सुदृढ़ बनाने की रणनीति बनाने के भी निर्देश दिये।

ग्रामोदय अभियान के शुभारंभ के एक दिन बाद 15 अप्रैल से कृषि महोत्सव की भी शुरूआत हो रही है। पाँच वर्ष में किसानों की आमदनी दुगनी करने, खेती के नये तरीकों की जानकारी देने, माँग के अनुरूप कृषि उपज की बोनी करने, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ लेने, जैविक खेती को अपनाने, मृदा स्वास्थ्य कार्ड वितरण करने जैसी गतिविधियाँ संचालित की जायेगी। पूरे प्रदेश में 600 से ज्यादा कृषि क्रांति रथ किसानों को जागरूक बनायेंगे। इन कृषि क्रांति रथों के माध्यम से किसानों को खेती की नई तकनीकी की जानकारी और परामर्श दिया जायेगा। सभी किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध करवाया जायेगा।

कृषि महोत्सव में ग्राम पंचायत, विकासखंड और जिला स्तरीय कार्यक्रमों की श्रृंखला बनायी गई है। हर जिले में कृषि मेलों का आयोजन किया जायेगा। कृषि संबंधी और किसानों से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिये पंचायत एवं ग्रामीण विकास, राजस्व, पशुपालन एवं सहकारिता, उद्यानिकी, ऊर्जा, आदिम जाति कल्याण विभागों से समन्वय स्थापित किया गया ताकि तत्काल इनकी समस्याओं का समाधान हो सके। बैठक में मुख्य सचिव बी.पी. सिंह, अपर मुख्य सचिव ग्रामीण विकास राधेश्याम जुलानिया एवं संबंधित विभागों के प्रमुख सचिव उपस्थित थे।

,
Shares