भारतीय वैज्ञानिकों ने ‘रामपत्री’ से बनाई कैंसर की दवा

 

 

 

 

नई दिल्ली: देश की सुरक्षा के लिए परमाणु बम बनाने वाले भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र के वैज्ञानिक मानव जीवन की रक्षा के लिए कैंसर की दवा बनाने के काम में भी दिन-रात जुटे हैं. इसी कड़ी में उन्होंने ‘रामपत्री’ पौधे से कैंसर की एक नई दवा बनाई है जो दुनियाभर में कैंसर रोगियों के जीवन की रक्षा करने में मददगार हो सकती है. इससे पहले बार्क कैंसर के कोबाल्ट थेरैपी उपचार के लिए ‘भाभाट्रोन’ नाम की मशीन भी बना चुका है जिसका इस्तेमाल आज दुनिया के कई देशों में हो रहा है. देश के परमाणु कार्यक्रम के जनक एवं स्वप्नदृष्टा होमी जहांगीर भाभा के नाम पर मुंबई में स्थापित भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (बार्क) देश के इस महान दिवंगत वैज्ञानिक के सपनों को पूरा करने के क्रम में नए-नए अविष्कार करने में लगा है . बार्क द्वारा ‘रामपत्री’ नामक पौधे के अणुओं से बनाई गई कैंसर की दवा कर्क रोग के उपचार में क्रांति लाने में सहायक हो सकती है.

,
Shares