नेरवा बस हादसे में 45 शव बरामद, 33 की हुई शिनाख्त

शिमला। शिमला जिले की चैपाल तहसील के नेरवा में गुम्मा के समीप निजी बस के खाई में गिरने से 45 लोगों की मृत्यु हुई है। जिनमें से 33 की शिनाख्त हो चुकी है। यह दर्दनाक हादसा बुधवार को दिन में साढ़े 11 बजे के आसपास हुआ था। राहत व बचाव कार्य में जुटे दलों ने देर रात सभी शव घटनास्थल से बरामद कर लिए हैं और बचाव अभियान अब समाप्त कर दिया गया है।

पुलिस उप अधीक्षक मुनीष डडवाल ने गुरुवार को बताया कि 12 शवों की शिनाख्त नहीं हो पाई है, जबकि 33 शवों को पहचान के बाद उनके परिजनों कोे सौंप दिया गया है। मृतकों में 17 उतराखण्ड, 13 हिमाचल ओर तीन उत्तर प्रदेश के हैं। उन्होंने कहा कि 45 मृतकों में 30 पुरुुष और 15 महिलाएं हैं।

हादसे का शिकार हुई उतराखण्ड की निजी मिनी बस विकास नगर से त्यूणी आते समय लगभग 500 नीचे टोंस नदी में गिर गई थी। बस के कंडक्टर और एक अन्य यात्री ने घटना के दौरान छलांग लगा दी और बच गए थे। मृतकों के शवों को सड़क तक पहुंचाने में बेहद कठिनाई का सामना करना पड़ा था, क्योंकि ये इलाका काफी दुर्गम है।

राज्य के परिवहन मंत्री जी.एस. बाली ने क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी शिमला के नेतृत्व में एक कमेटी गठित कर दुर्घटना के कारणों का पता लगाकर सात दिन में रिपोर्ट देने को कहा है। परिवहन मंत्री के मुताबिक मृतकों को 50 हजार रुपये की फौरी राहत के अलावा एक-एक लाख रुपये की राहत और दी जाएगी।

,
Shares