चीन के ‘ब्रिक्स प्लस’ आइडिया पर भारत का पलटवार

नई दिल्ली, 09 मार्च । ब्रिक्स संगठन को लेकर चीन के नए पैतरे पर भारत ने करारा और संयमित जवाब दिया है। भारत सरकार ने इसे चीन का अल्पकालीन प्रयोग बताते हुए इसकी अनदेखी कर दी। दरअसल चीन ने हाल ही में ब्रिक्स प्लस बनाने का सुझाव दिया, जिसमें ब्रिक्स देशों के अतरिक्त और भी देशों को सम्मिलित किया जाने का प्रस्ताव है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने बताया कि ब्रिक्स देशों में इस बार अध्यक्षता चीन को मिली है, ऐसे में चीन अस्थायी तौर पर कुछ गतिविधियां कर सकता है। जैसे 2016 में भारत ने गोवा में हुई ब्रिक्स सम्मिट के दौरान बिमस्टेक सदस्य देशों को भी आमंत्रित किया था। बता दे कि ब्रिक्स सदस्य देशों में ब्राजील, रुस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका है। हाल ही में भारत के गोवा में ब्रिक्स सम्मिट के दौरान ब्रिक्स देशों के अलग बैंक ‘न्यू डेवेल्पमेंट बैंक’ को लेकर सहमति बनी थी, जिसका मुख्यालय चीन के शंघाई शहर है।

,
Shares