अचल कुमार ज्योति देश के नए सीईसी होंगे

नई दिल्ली.जालंधर के मिट्‌ठा बाजार में पले-बढ़े अचल कुमार ज्योति नए चीफ इलेक्शन कमिश्नर (सीईसी) बनाए गए हैं। वो 6 जुलाई को नसीम जैदी से चार्ज लेंगे। 1975 में 22 साल की उम्र में गुजरात काडर के आईएएस बने ज्योति 2013 में गुजरात के चीफ सेक्रेटरी पद से रिटायर हुए। इसके बाद उन्हें स्टेट विजिलेंस कमिश्नर बनाया गया। उन्हें 13 मई, 2015 को इलेक्शन कमिश्नर भी बनाया गया था। ज्योति 1999 में कांडला पोर्ट ट्रस्ट के चेयरमैन रहे। 2004 में उन्हें सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड का मैनेजिंग डायरेक्टर बनाया गया था। गुजरात में रेवेन्यू, इंडस्ट्री और वाटर सप्लाई डिपार्टमेंट में सेक्रेटरी रहे।
ज्योति मोदी के सीएम रहते गुजरात के चीफ सेक्रेटरी बनाए गए थे। इस पोस्ट पर रहते हुए वे 2013 में रिटायर हुए थे। मोदी के स्वर्णिम गुजरात कैम्पेन के दौरान ज्योति कई बार देर रात तक गांवों में काम करते रहते थे। इसके लिए सीएम मोदी ने उनकी तारीफ की थी। उन्हें ‘मोदी की एके-47’ भी कहा जाता था।
बता दें कि मौजूदा सीईसी नसीम जैदी ने बतौर सीईसी 19 अप्रैल 2015 को चार्ज लिया था। उनका 6 जुलाई को पूरा हो रहा है।
जनवरी तक रहेंगे CEC
कोई भी शख्स सीईसी की पोस्ट पर 65 साल की उम्र तक या छह साल तक (जो पहले पूरा हो) रह सकता है। ज्योति अगले साल 23 जनवरी को 65 साल के हो जाएंगे। यानी उनका टेन्योर करीब 6 महीने रहेगा।
अब तक 20 CEC अप्वाइंट हुए
बता दें कि 1950 से लेकर अब तक देश में 20 सीईसी अप्वाइंट हो चुके हैं। इस पोस्ट पर सबसे कम वक्त तक वीएस रमादेवी रहीं। वो 26 नवंबर 1990 से 11 दिसंबर 1990 यानी सिर्फ 16 दिन सीईसी रहीं।
रमादेवी देश की पहली और इकलौती महिला सीईसी रही हैं। टीएन शेषन ने उनसे सीईसी का चार्ज लिया था।

Shares