MP: शाह ने पूछा- अगला कांग्रेस अध्यक्ष कौन, जवाब आया-पप्पू, शाह ने ये किया

भोपाल.समन्वय भवन में ‘नया भारत मंथन’ में अमित शाह ने श्रोताओं से पूछा- मेरे बाद भाजपा में कौन अध्यक्ष बनेगा, यह तय नहीं है। बताइए सोनिया गांधी के बाद कांग्रेस अध्यक्ष कौन बनेगा? सामने से जवाब आया-‘पप्पू।’ मुस्कराते हुए शाह ने टोका-राहुल गांधी कहिए। यही अंतर है। भाजपा में लोकतंत्र है, जबकि कांग्रेस और सपा जैसी पार्टियों में सब पहले से तय है।

शाह ने मोदी सरकार की योजनाएं गिनाते हुए कहा कि 2018 के बाद देश का कोई भी गांव बिजली विहीन नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि हम 30 रुपए का मटका भी ठोक बजा कर खरीदते हैं तो सांसद- विधायक भी ठोक बजा कर ही चुनें।

अजय सिंह का सवाल, शाह का जवाब
शाह ने मप्र के नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह के बारे में कहा कि सिंह ने उन्हें पत्र लिख कर मुलाकात की इच्छा जताई है। पूछा है कि मोदी सरकार ने मप्र को क्या दिया? मैं उनके सवाल का जवाब बंद कमरे में देने की बजाय बताना चाहता हूं कि यूपीए सरकार ने मप्र को हर साल 1 लाख 34 हजार करोड़ रुपए दिए। जबकि मोदी सरकार ने विभिन्न योजनाओं में 3 लाख 44 हजार करोड़ यानि लगभग दो लाख करोड़ रुपए अधिक रुपए दिए हैं। शाह ने अपनी बात के समर्थन में स्मार्ट सिटी और अमृत प्रोजेक्ट से लेकर विभिन्न अनुदान आदि आंकड़े सहित गिनाए। उन्होंने कहा ‘सिंह साहब अब जनता आपसे हिसाब मांगेगी कि आपकी सरकार के समय मप्र को कम पैसा क्यों मिला?’

कार्यक्रम में ऐसे बुद्धिजीवियों और सामाजिक व धार्मिक संगठनों के पदाधिकारी, व्यवसायी और उद्यमी मौजूद थे जो भाजपा के पदाधिकारी नहीं है। वरिष्ठ पत्रकार उदय माहूरकर की पुस्तक का विमोचन भी हुआ। पूर्व डीजीपी स्वराज पुरी, पत्रकारिता विवि के कुलपति बीके कुठियाला, मैपकास्ट के डीजी डॉ. नवीन चंद्रा, गोविंदपुरा औद्योगिक एसोसिएशन के अध्यक्ष एसके पाली, क्षत्रीय महासभा के अध्यक्ष विनय भदौरिया, क्रेडाई के प्रवक्ता मनोज सिंह मीक समेत कई हस्तियां मौजूद थीं।
शाह ने पूछा- जो काम किए हैं उसकी कोई रिपोर्ट है, जिला पंचायत अध्यक्ष बोले- हमारे पास तो फाइल ही नहीं आती
भाजपा अध्यक्ष ने निगम मंडल अध्यक्ष, महापौर, जिला पंचायत अध्यक्ष, प्राधिकरण व जिला सहकारी बैंकों के अध्यक्षों से पूछा कि क्या उनके पास अब तक योजनाओं को लाभ लेने वालों की कोई सूची है? किसने क्या काम किया इसका कोई डेटा या रिकाॅर्ड है? इस पर जिला पंचायत अध्यक्षों ने अपना दुखड़ा रोना शुरू कर दिया। अध्यक्षों ने कहा कि उनके पास तो फाइल ही नहीं आती। फिर योजनाओं और हितग्राहियों की जानकारी कैसे रहेगी।
काम करें या पद छोड़ें निगम-मंडल अध्यक्ष: शाह ने कहा कि निगम मंडल के अध्यक्ष सुविधाएं पूरी ले रहे हैं लेकिन परफार्मेंस नहीं दे पा रहे हैं। वे या तो काम करें या पद छोड़ें।
तीन प्रमुख मुद्दे : किसी पर आरोप मत लगाओ समस्याएं खुलकर बताओ
केंद्रीय पदाधिकारियों, प्रदेश कोर ग्रुप सदस्य, पदाधिकारी, सांसद, विधायक, जिला अध्यक्ष, संभागीय मंत्री व जिला प्रभारियों की बैठक में शाह ने कहा कि समस्याएं खुलकर बताओ, व्यक्तिगत आरोप न लगाएं और किसी को निशाना न बनाएं।
1. अफसरों की मनमर्जी पर सवाल
विधायक कैलाश चावला ने कहा कि जिला योजना समिति का सरकारीकरण हो गया है। अफसरों की मर्जी से फैसले होते हैं। पत्र का जवाब तक नहीं देते। केंद्र हो या फिर राज्य सरकार के दफ्तर, कहीं भी काम नहीं हो रहे हैं। शाह ने कहा-आपको इसके लिए प्रभारी मंत्री से संपर्क करना चाहिए। शिकायत आई कि सांसद-विधायक निधि प्रभावशाली लोग इस्तेमाल कर रहे हैं। पार्टी कार्यकर्ताओं के कहने पर निधि खर्च नहीं की जाती है। उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि विधायक निधि कैसे बांटी जाए? शाह ने कहा – हम इसकी विधि बनाएंगे। सांसद व विधायक निधि जिला अध्यक्ष व स्थानीय नेताओं की सहमति से ही बांटी जाए।
2. गौर साहब के दिल्ली आगमन की चाहत
बाबूलाल गौर ने कहा कि वे दिल्ली आकर मिलना चाहते हैं। यहां भेल जैसे संस्थान विकास की अनुमतियां नहीं देते हैं। शाह ने कहा- दिल्ली आने की जरूरत नहीं है। आप बैठ जाइए। गौर ने फिर कहा कि स्थानीय स्तर पर समन्वय नहीं हो पाता है। इसलिए दिल्ली आकर बताना चाहता हूं। शाह ने कहा कि इसके लिए विधायकों की एक कमेटी बनाई जाएगी।
3. मंत्रियों की मनमानी का रोना
एक पदाधिकारी ने कहा कि मंत्री, कार्यकर्ताओं की नहीं सुनते हैं। मंत्री जिलों में सिर्फ बैठकें करने जाते हैं, कार्यकर्ताओं को समय नहीं देते। शाह ने कहा कि मंत्री बैठकों वाले दिन को छोड़ कर प्रदेश मुख्यालय और प्रभार वाले जिलों में जाकर कार्यकर्ताओं से संवाद करें। मुख्यमंत्री बोले- हमने यह व्यवस्था बनाई है कि मंत्री हर सोमवार व मंगलवार को राजधानी में रहें और कार्यकर्ताओं की समस्याएं सुने।
आज के आयोजन
– सुबह 9 बजे शौर्य स्मारक का भ्रमण
– सुबह 9.30 बजे से 10.30 बजे : प्रदेश मोर्चा अध्यक्ष, प्रकोष्ठों के संयोजक एवं कोर ग्रुप की बैठक
– सुबह 10.30 से 12 बजे : विभाग और प्रकल्प तथा कोर ग्रुप की बैठक
– दोपहर 12 से 1 बजे : पौधरोपण
– दोपहर 1 से 2.30 बजे : सीएम हाउस में समाज प्रमुखों व संत समुदाय से चर्चा
– शाम 5 से 6 बजे : पूर्व सांसद, पूर्व विधायक एवं कोर ग्रुप की बैठक
– शाम 6.30 से 7.30 बजे : कैलाश सारंग की पुस्तक का विमोचन होटल लेकव्यू अशोक।

,
Shares