MP के हर व्यक्ति पर तेरह हजार का कर्ज, सालाना चुका रहा एक हजार ब्याज

भोपाल:
मध्यप्रदेश में प्रति व्यक्ति आय तेजी से बढ़ रही है वहीं प्रति व्यक्ति कर्ज की दर भी लगातार बढ़ रही है। प्रदेश का हर व्यक्ति 13 हजार 851 रुपए का कर्जदार है। हर व्यक्ति को इसके ब्याज पर ही सालाना 1009 रुपए चुकाना पड़ रहा है। पिछले तीन सालों में प्रति व्यक्ति कर्ज में 2 हजार 956 रुपए का इजाफा हुआ है। वहीं प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय बढ़कर 72 हजार 599 रुपए हो गई है।
वित्त मंत्री जयंत मलैया ने विधायक जीतू पटवारी के सवाल के जवाब में यह जानकारी दी है। पटवारी ने 2013 से 2017 तक प्रति व्यक्ति कर्ज, उस कर्ज पर चुकाए जा रहे ब्याज तथा प्रति व्यक्ति आय की जानकारी सरकार से मांगी थी। वित्त मंत्री ने जानकारी दी है कि वर्ष 2014 में प्रदेश पर 82 हजार 897 रुपए का कर्ज था। इस पर ब्याज के रूप में 6 हजार 391 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया है। इस वर्ष में प्रदेश की आबादी सात करोड़ 70 लाख थी। इस हिसाब से प्रति व्यक्ति कर्ज 10 हजार 896 आ रहा है और इसके ब्याज पर 830 रुपए का भुगतान किया गया। पिछले तीन सालों में प्रति व्यक्ति कर्ज भी बढ़ा है और उस पर अदा किए जाने वाले ब्याज में भी इजाफा हुआ है। वर्ष 2015  में प्रति व्यक्ति 12 हजार 84 रुपए का कर्ज था जो 2016 में बढ़कर 13 हजार 851 रुपए हो गया है। प्रति व्यक्ति ब्याज भी नौ सौ रुपए से बढ़कर 1009 रुपए प्रति व्यक्ति हो गया है। प्रदेश की जनसंख्या बढ़कर 8 करोड़ दो हजार हो गई है। वर्ष 2017 के वित्त लेखे नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक से नहीं मिले है इसलिए वित्त मंत्री ने इसकी जानकारी नहीं दी है।
बढ़ गई प्रतिव्यक्ति आय
वित्त मंत्री मलैया के मुताबिक प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय बढ़कर 72  हजार 599 रुपए सालाना हो गई है। वर्ष 2014 में प्रति व्यक्ति आय 51 हजार 798 रुपए थी। वर्ष 2015 में यह बढ़कर 59 हजार 770 रुपए हो गई। वर्ष 16 में प्रति व्यक्ति आय 62 हजार 33 रुपए थी जो वर्ष 17 में बढ़कर 72 हजार 599 रुपए हो गई है।

,
Shares