महाकाल एक्सप्रेस को मोदी ने किया रवाना, जानें- समय और किराया

महाकाल एक्सप्रेस को मोदी ने किया रवाना, जानें- समय और किराया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी से काशी महाकाल एक्सप्रेस ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. आम यात्री 20 फरवरी से इस ट्रेन में सफर कर पाएंगे. इस ट्रेन के माध्यम से मध्य प्रदेश के इंदौर के समीप स्थित ज्योतिर्लिंग ओंकारेश्वर (इंदौर), उज्जैन स्थित महाकालेश्वर और उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थित काशी विश्वनाथ तीन तीर्थस्थल जुड़ेंगे.

यह ट्रेन काशी विश्वनाथ की नगरी वाराणसी से इंदौर के बीच चलेगी. यह ट्रेन तीन ज्योतिर्लिंगों- काशी विश्वनाथ, ओमकारेश्वर (इंदौर के निकट) और महाकालेश्वर (उज्जैन)- को जोड़ेगी. इसके अलावा यह ट्रेन मध्य प्रदेश के इंडस्ट्रियल हब इंदौर और राजधानी भोपाल को भी जोड़ेगी.

यह ट्रेन हर मंगलवार और गुरुवार को दोपहर 2.45 बजे वाराणसी से चलेगी और अगले दिन सुबह 9:40 बजे इंदौर पहुंचेगी. वापसी में यह ट्रेन हर बुधवार और शुक्रवार को सुबह 10:55 बजे इंदौर से चलेगी और अगले दिन सुबह 6 बजे वाराणसी पहुंचेगी. यह ट्रेन दोनों तरफ से उज्जैन, संत हिरदाराम नगर, बीना, झांसी, कानपुर, लखनऊ और सुल्तानपुर स्टेशनों पर रुकेगी.

ट्रेन को हफ्ते एक दिन प्रयागराज के रास्ते चलाया जाएगा. ट्रेन हर रविवार को वाराणसी से दोपहर 3:15 बजे इंदौर के लिए चलेगीऔर अगले दिन सुबह 9.40 बजे इंदौर पहुंचेगी. वापसी में यह ट्रेन हर सोमवार को सुबह 10.55 बजे इंदौर से चलेगी और अगले दिन सुबह 5 बजे वाराणसी पहुंचे. दोनों दिशाओं से यह ट्रेन उज्जैन, संत हिरदाराम नगर, बीना, झांसी, कानपुर और प्रयागराज स्टेशन पर रुकेगी.

आईआरसीटीसी द्वारा चलाई जाने वाली काशी महाकाल एक्सप्रेस तीसरी कॉरपोरेट ट्रेन है. आईआरसीटीसी की वेबसाइट के मुताबिक वाराणसी से इंदौर के बीच एक यात्री का किराया इस ट्रेन में 1951 रुपये लगेगा. काशी महाकाल एक्सप्रेस में भी तेजस की तरह डायनैमिक किराया वसूला जाएगा.

आईआरसीटीसी ने कहा कि रातभर के सफर को ध्यान में रखते हुए इस ट्रेन में यात्रियों को उच्च गुणवत्तापूर्ण शाकाहारी भोजन, बेडरॉल और हाउसकीपिंग सर्विस जैसी सुविधाओं के साथ-साथ प्रत्येक यात्री को यात्रा के दौरान 10 लाख रुपये की यात्रा बीमा कवर भी दी जाएगी.

बता दें, IRCTC द्वारा चलाई जा रही तेजस ट्रेन के लेट होने पर हर्जाने का भी प्रावधान है. तेजस एक घंटा लेट होने पर यात्रियों को 100 रुपये, जबकि 2 घंटे से ज्यादा की देरी पर 250 रुपये का मुआवजा मिलता है. हर्जाना पाने के लिए कोई भी पैसेंजर आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाकर क्लेम का तरीका जान सकते हैं और वहां से इस धनराशि का क्लेम ले सकते हैं. टोल फ्री नंबर पर कॉल कर भी मुआवजे का क्लेम किया जा सकता है.

इस ट्रेन की खासियतें

महाकाल एक्सप्रेस में विमान की तरह व्यक्तिगत एलसीडी एंटरटेनमेंट-कम-इंफोर्मेशन स्क्रीन, ऑन बोर्ड वाई-फाई सेवा, आरामदायक सीटें, मोबाइल चार्जिंग, व्यक्तिगत रीडिंग लाइट्स, मोड्यूलर बायो-टॉयलेट और सेंसर टेप फिटिंग की सुविधाएं हैं.

,
Shares