हाँकी: भारत ने एशिया कप जीता, फाइनल में मलेशिया को हराया

भारत ने ढाका में खेले गए 10वें एशिया कप हॉकी टूर्नामेंट पर कब्जा कर लिया है. रविवार को फाइनल में उसने मलेशिया को 2-1से मात दी. पहली बार फाइनल खेलने उतरी मलेशियाई टीम छठी वर्ल्ड रैंकिंग वाली भारतीय टीम के आगे कोई उलटफेर नहीं कर पाई. भारत की ओर से रमनदीप सिंह (तीसरे मिनट) और ललित उपाध्याय (29वें मिनट) के नाम एक-एक गोल रहा. उधर, पाकिस्तान ने कोरिया को 6-3 से हरा टूर्नामेंट में तीसरा स्थान हासिल किया.
भारत ने सुपर-4 मुकाबले में भी मलेशिया को 6-2 से रौंदा था. लेकिन 12वीं रैंकिंग वाली मलेशियाई टीम ने इसी साल जून में हॉकी वर्ल्ड लीग सेमीफाइनल्स (लंदन) के क्वार्टर फाइनल में भारत को 3-2 से हराया था. जबकि मई में अजलन शाह कप में भी भारतीय टीम को 1-0 से मात दी थी.

इसके साथ ही मनप्रीत सिंह की कप्तानी में भारत टीम ने 10 साल बाद एक बार फिर एशियाई हॉकी का ताज हासिल कर लिया है. भारत इससे पहले 2007 में चैंपियन बना था. एशिया कप में भारत का यह तीसरा खिताब रहा. पहली बार भारत ने 2003 में एशिया कप पर कब्जा किया था.

तीसरे ही मिनट में भारत को बढ़त

भारत ने मौलाना भाशानी हॉकी स्टेडियम में पहले ही क्वार्टर की शुरुआत में धूम मचा दी. रमनदीप सिंह के अचूक निशाने से भारत ने तीसरे ही मिनट में 1-0 से बढ़त ले ली. इस गोल के बावजूद मलेशियाई टीम लय में आने की कोशिश की. लेकिन उसका पहला पेनल्टी कॉर्नर बेकार गया.

दूसरे क्वार्टर में दोनों ओर से आक्रमण का दौर जारी रहा. मलेशिया ने मौका गंवाया. आखिरकार भारत ने पहला पेनल्टी कॉर्नर हासिल कर लिया, लेकिन मलेशियाई खिलाड़ी रजी रहीम ने उसे विफल कर दिया. भारत का दूसरे पेनल्टी कॉर्नर भी जाया गया. लेकिन ललित उपाध्याय ने 29वें मिनट में भारत को 2-0 से आगे कर दिया.

तीसरे क्वार्टर में भारत की बढ़त बरकरार

तीसरे क्वार्टर ने भारत ने कई मूव बनाए, एक बार तो एसके उथप्पा ने बेहद आसान मौका गंवाया, फिर एसवी सुनील भी चूक गए. रमनदीप भी गोल करने में नाकाम रहे. तीसरा क्वार्टर बिना गोल के बीता, भारत की 2-0 से बढ़त कायम रही.

आखिरी क्वार्टर में मलेशिया को मिला गोल

आखिरी क्वार्टर में मलेशिया ने अपना दूसरा पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया, लेकिन इसे वह गोल में बदल नहीं पाया. लेकिन, रिबाउंड पर मलेशिया ने गोल कर स्कोर 1-2 कर दिया. भारत ने रेफरल लिया, लेकिन बेकार गया. 50वें मिनट में शाहरिल ने यह गोल किया. मलेशिया ने एक और पेनल्टी कॉर्नर लेकर भारत की धड़कनें बढ़ा दी थीं. लेकिन भारतीय टीम सुरक्षित रही.

,
Shares