सीएपीटी की निर्माणाधीन बिल्डिंग गिरने के मामले में तीन गिरफ्तार

भोपाल, 13 मार्च (। बीती गुुरूवार को भोपाल के समीप रायसेन रोड पर पुलिस ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट (सीएपीटी) की निर्माणाधीन बिल्डिंग गिरने के मामले में बिलखिरिया पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया हैं। गिरफ्तार हुए लोगों में बीसीसी डेवलपर्स एंड प्रमोटर्स कंपनी के पार्टनर समेत तीन कर्मचारी हैं। हालांकि कांट्रेक्टर के खिलाफ पुलिस ने अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है। गौरतलब हैं कि हादसे में 1 मजदूर की मौत हो गई थी, जबकि 16 घायल हुए थे जिसमें 4 की हालत अब भी गंभीर है। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने शनिवार को ही आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीम बनाई गई थी। रविवार को कार्रवाई को अंजाम देते हुए तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। यहां पुलिस को अब इस मामले से जुड़ी सभी फाइलें और जानकारी मिलने का इंतजार है। सीएसपी अयोध्या नगर रश्मि खरिया ने बताया कि दिल्ली की कंस्ट्रक्शन कंपनी बीसीसी डेवलपर्स एंड प्रमोटर्स ने रायसेन रोड स्थित पुलिस ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट का सितंबर 2014 में बिल्डिंग का काम शुरू किया था। कंपनी के डायरेक्टर नई दिल्ली निवासी अंकुर बंसल ने यह ठेका जगत नारायण सिंह के साथ मिलकर लिाया था। कंपनी को जून, 2017 बिल्डिंग का काम पूरी करना था। तय समय पर काम पूरा करने की जल्दी में कांट्रेक्टर ने सुरक्षा को अनदेखा कर गीले पिलर पर ही काम जारी रखा। इसी का नतीजा हुआ कि पूरी बिल्डिंग ही ढह गई और डेढ़ दर्जन मजदूर दब गए थे। जांच में कांट्रेक्टर की गलती सामने आने के बाद पुलिस ने कांट्रेक्टर और उसकी टीम के खिलाफ लापरवाही बरतने का प्रकरण दर्ज किया। हादसे के चार दिन बाद पुलिस ने रविवार को प्रोजेक्ट मैनेजर मूलत: ग्राम भरोली यूपी निवासी 33 वर्षीय सुजीत सिंह पिता देवीबक्श सिंह को गिरफ्तार कर लिया। उनकी निशानेदही पर पुलिस ने बाराबकी यूपी निवासी 57 वर्षीय जगत नारायण वर्मा पिता विद्याप्रसाद वर्मा और हुगंली, पश्चिम बंगाल निवासी रुद्रनारायण दास पिता इंद्रनारायण दास को गिरफ्तार कर लिया। 

Shares