माइग्रेन राइनाइटिस आदि रोगों पर होगा रिसर्च

*माइग्रेन राइनाइटिस आदि रोगों पर होगा रिसर्च*
*(ओजस शोध केंद्र की स्थापना की गई)*

प्रमाण आधारित आयुर्वेद चिकित्सा (Evidence Based Ayurveda Practices) तीन दिवसीय कार्यक्रम के समापन अवसर पर शोध केंद्र की स्थापना पूजन फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ मधुसूदन देशपांडे ने की।
यह शोध केंद्र *पद्मश्री बालेन्दु प्रकाश (देहरादून) एवं प्रख्यात पंचकर्म विशेषज्ञ डॉ उमाशंकर निगम के मार्गदर्शन में *ओजस संस्थान ई -4/55, अरेरा कॉलोनी भोजपुर क्लब के सामने भोपाल* में संचालित होगा।
उल्लेखनीय है कि प्रमाण आधारित आयुर्वेद चिकित्सा की पहली राष्ट्रीय संगोष्ठी में 12 से अधिक विशेषज्ञों ने माइग्रेन पेंक्रिटाइटिस, फैटी लीवर, अर्थराइटिस, पीसीओडी, पैरालिसिस, गठिया किडनी रोग जैसे जटिल रोगों की प्रमाण (evidence based) आधारित आयुर्वेद चिकित्सा के संबंध में अपने शोध पत्र प्रस्तुत किए थे। इस राष्ट्रीय संगोष्ठी में 10 राज्यों के 25 से अधिक संस्थानों से 550 से अधिक प्रतिनिधि उपस्थित हुए।
जनसामान्य को शोध के परिणामों का लाभ मिल सके इस हेतु आयुर्वेद जन चर्चा सत्र में डॉक्टर लोकेंद्र दवे, डॉक्टर सुनील जोशी, डॉ रवि कुमार श्रीवास्तव, डॉ अशोक कुमार वार्ष्णेय अशोक कुमार प्रस्तुत की।
चिकित्सा शिविर में 70 से अधिक रोगियों का स्वास्थ्य परीक्षण कर निशुल्क दिया गया इन सभी रोगियों का फॉलोअप शोध केंद्र में होगा।

,
Shares