मध्य प्रदेश में हुआ बड़ा खुलासा, डायरिया और एनीमिया से पीड़ित हैं कई बच्चे

मध्यप्रदेश में इन दिनों प्रदेशव्यापी दस्तक अभियान चल रहा है. इस अभियान के तहत अब तक हुई जांच में प्रदेश में 61 हजार से अधिक बच्चे डायरिया और 27 हजार से अधिक बच्चे एनीमिया से पीड़ित पाए गए हैं. साढ़े छह हजार से अधिक कुपोषित बच्चों को चिह्नित कर उन्हें उचित उपचार और पोषक आहार दिया जा रहा है. ये खुलासा शुक्रवार को अभियान की स्टेट नोडल अधिकारी डॉ. प्रज्ञा तिवारी ने मीडिया के समक्ष किया है.

उन्होंने बताया कि मध्य प्रदेश में विगत 10 जून को प्रदेशव्यापी दस्तक अभियान शुरू किया गया था. इस अभियान के दौरान अब तक प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग के दस्तक दलों ने 44 हजार 85 गांवों में घर-घर जाकर कुल 53 लाख 54 हजार 398 बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण किया. इस अभियान के अंतर्गत अब तक प्रदेश के 99 प्रतिशत ग्रामों को कवर किया गया है. यह अभियान आगामी 20 जुलाई तक जारी रहेगा.

दस्तक अभियान की स्टेट नोडल ऑफिसर डॉ. प्रज्ञा तिवारी ने बताया कि दस्तक अभियान में बच्चों के स्वास्थ्य परीक्षण के दौरान 61 हजार 14 बच्चे डायरिया के चिह्नित किये गए हैं, जबकि 27 हजार 880 बच्चे एनीमिया के पीड़ित पाए गए हैं. 6,474 बच्चे सेप्सिस से पीड़ित हैं. खून की कमी वाले 2,205 बच्चों को रक्ताधान किया गया, वहीं सेप्सिस (कुपोषित) चिह्नित बच्चों में से 6,618 बच्चों को एनआरसी में भर्ती कर उपचारित किया गया और पोषण आहार दिया गया. अभियान के दौरान 49 लाख 63 हजार 971 ओआरएस घोल के पैकेट वितरित किये गये.

,
Shares