मंत्री बिसेन के भाषण पर भड़के किसान, बोले – बीमा मिला न मुआवजा

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जहां किसानों के लिए राहत की घोषणा कर वाहवाही लूटी, वहीं किसान महासम्मेलन की शुरुआत में कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन के भाषण पर कई किसान भड़क गए। किसानों ने कहा कि न तो फसल बीमा का पैसा मिला है और न ही मुआवजे का।

सम्मेलन में शिवराज से पहले बिसेन ने भाषण दिया। बिसेन ने जैसे ही कहा कि किसानों को सरकार ने फसल बीमा और भावांतर भुगतान योजना का जमकर लाभ दिया है तो इस पर सामने बैठे कुछ किसान भड़क गए। उन्होंने खड़े होकर इस पर विरोध दर्ज कराया।

दमोह से आए किसान सीताराम पटेल ने बताया कि भावांतर भुगतान योजना का पैसा अभी तक नहीं मिला है। 40 क्विंटल उड़द बेची, लेकिन भावांतर का पैसा नहीं मिला। वहीं धार से आए युनूस पटेल ने कहा कि हर बार फसल बीमा का पैसा जमा किया, लेकिन फसल खराब होने पर भी बीमा नहीं मिला। मुआवजा भी न के बराबर मिला।

आक्रोश देख मंच के पीछे बुलाया

बिसेन के भाषण के बाद किसानों का गुस्सा देख सामने बैठे कुछ किसानों को मंच के पीछे बुलाया गया। वहां उनसे मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव विवेक अग्रवाल ने बातचीत की और समस्या पूछी।

बोनस की घोषणा सुन उछल पड़े नंदकुमार

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंच से जैसे ही पिछले साल की गेहूं और धान की फसल पर 200 रुपए बोनस देने की घोषणा की, वैसे ही मंच पर बैठे भाजपा प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान उछल पड़े और उन्होंने कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन को गले लगा लिया। चौहान जब शिवराज के भाषण के दौरान आगे जाने लगे तो बाबूलाल गौर ने उन्हें इशारा कर बैठा दिया।

,
Shares