भारत के रक्षा मंत्री ने राफेल में भरी उड़ान, की शस्त्र पूजा

भारत के रक्षा मंत्री ने फ्रांस में हो रही राफेल हैंड ओवर सेरेमनी में राफेल को रिसीव किया. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह राजनाथ ने मेरीनेक एयरबेस पहुंचकर राफेल यूनिट का दौरा किया और राफेल पर बनी फिल्म भी देखी. राजनाथ ने राफेल में लगे शस्त्रों की पूजा की. आज से भारतीय वायुसेना की शक्ति और भी अधिक बढ़ गई.


राफेल जेट को रिसीव करने के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह फ्रांस के मैरीनेक एयरबेस पहुंचे थे. उन्होने शस्त्र पूजा के साथ ही राफेल विमान में उड़ान भी भरी.

राफेल की खासियत-
यह कई खूबियों वाले राडार वार्निग रिसीवर, कई लो लैंड जैमर, दस घंटे तक की डाटा रिकार्डिग, इजरायली हेल्मेट उभार वाले डिस्प्ले, इन्फ्रारेड सर्च एवं ट्रैकिंग सिस्टम जैसी क्षमताओं से लैस है.
राफेल में जितना तगड़ा रडार सिस्टम है उतना एफ-16 में नहीं है.

राफेल का रडार सिस्टम 100 किलोमीटर के दायरे में एक बार में एकसाथ 40 टारगेट की पहचान कर सकता है जबकि पाकिस्‍तान के एफ-16 का रडार सिस्टम केवल 84 किलोमीटर के दायरे में केवल 20 टारगेट की ही पहचान करने में सक्षम है.

इन मिसाइलों की मदद से भारत के पास हवा से हवा में मार करने की क्षमता है. ये दोनों मिसाइलें ही राफेल को बाकी सबसे अलग बनाती हैं. राजनाथ सिंह को 36 राफेल जेट विमानों में से पहला विमान आज मिला.

राजनाथ सिंह को राफेल सौंपने का कार्यक्रम पैरिस से लगभग 590 किलोमीटर दूर दसाल्ट एविएशन के संयंत्र में रखा गया है. इस राफेल में मिटिऑर और स्काल्प मिसाइलें तैनात हैं. रक्षा मंत्री इसे लेकर भारत आ रहे हैं.

Shares