प्रदेशभर के कोतवाली थानों को बनाया सायबर सेल का नोडल थाना

 

 

 

 

 

 

police 2017318 232837 18 03 2017

भोपाल। । अब लोगों को ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामलों में भोपाल आकर सायबर सेल जाने की जरूरत नहीं है। अब पीड़ित शहर के कोतवाली थाने में इस संबंध में शिकायत दर्ज करा सकता है। सायबर सेल ने लोगों को परेशानी से बचाने के लिए यह निर्णय लिया है। इसके लिए कोतवाली थाने में पदस्थ पुलिसकर्मियों को सायबर क्राइम से जुड़े अपराध की पहचान और आईटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज करने का प्रशिक्षण दिया गया।

जानकारी के मुताबिक अब तक प्रदेश में सायबर सेल का एकमात्र थाना भदभदा चौराहा भोपाल में ही है। बीते दो साल से सायबर क्राइम से जुड़े अपराधों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। सायबर सेल में हर रोज तकरीबन दर्जनभर से अधिक शिकायतें आती है। इससे सायबर सेल थाने पर काम का अत्यधिक बोझ बढ़ गया है।

प्रदेश में एकमात्र थाना होने के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहता है। विवेचकों पर काम का बोझ बढ़ने से मामलों की विवेचना पर भी प्रभाव पड़ रहा है। इसे देखते हुए अब जिला पुलिस को भी इसके लिए तैयार करने का निर्णय लिया गया है।

सबसे पहले शहर के कोतवाली थाने को साबयर सेल का नोडल थाना बनाया गया है। यहां पर लोग अब सीधे शिकायत कर सकते हैं। इससे पीड़ित को भोपाल आने की जरूरत नहीं होगी। कोतवाली के बाद अन्य थानों को भी इसके लिए तैयार किए जाने की योजना है, क्योंकि आने वाला समय में सर्वाधिक अपराध सायबर क्राइम से ही जुड़े होंगे।

सायबर क्राइम

-धोखाधड़ी कर खाते और क्रेडिट कार्ड से रुपए ट्रांसफर करना

-सोशल साइड पर अभ्रद टिप्पणी, अश्लील मैसेज और फर्जी आईडी बनाना

-वाट्सअप पर आपत्ती जनक और अश्लील वीडियो, फोटो और मैसेज करना

-फोन पर क्रेडिट कार्ड का नंबर पूछकर ऑन लाइन शॅपिंग

-ई-मेल एकाउंट हैक होना

-मोबाइल फोन और कंप्यूटर से जुड़े सभी अपराध

यह होगा फायदा

-अब पीड़ित को भोपाल आने की जरूरत नहीं है।

-इससे जिला पुलिसकर्मी भी सायबर क्राइम के अपराध से निपटने के लिए तैयार हो सकेंगे।

-सायबर सेल को अलग से थाने खोलने और सेटअप बनाने की जरूर नहीं पड़ेगी।

इनका कहना

सायबर क्राइम के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। प्रदेश का एकमात्र थाना होने के कारण लोगों को भोपाल आना पड़ता है। ऐसे में कई लोग तो शिकायत ही नहीं करते हैं। कोतवाली थाने को नोडल थाना बनाने से लोगों को इस परेशानी से निजात मिल जाएगी।

-शैलेंद्र सिंह चौहान, एआईजी सायबर सेल

 

Shares