नर्मदा सेवा यात्रा: दो जुलाई को 50 लाख लोग लगाएंगे पांच करोड़ पौधे

रायसेन, 18 मार्च (। नमामि देवी नर्मदे-नर्मदा सेवा यात्रा दुनिया का नदी एवं पर्यावरण संरक्षण का सबसे बड़ा अभियान है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा नर्मदा नदी की अविरलता एवं शुद्धता के लिए चलाए गए इस अभियान से जन-जन को जोड़ा जाए। रायसेन जिले में जब नर्मदा सेवा यात्रा का आगमन हो तो पूरे उत्साह एवं उमंग के साथ यात्रा का भव्य स्वागत हो। यह बात वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार ने शनिवार को नर्मदा सेवा यात्रा जिला आयोजन समिति की बैठक में कही। वन मंत्री ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा को मिल रहे व्यापक जनसमर्थन एवं सक्रिय सहभागिता को ध्यान में रखते हुए यह कहा जा सकता है कि आने वाले समय में इसके बेहतर परिणाम मिलेंगे। नर्मदा नदी के दोनों तटों पर वृक्षारोपण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि 02 जुलाई को 50 लाख लोग एक साथ 05 करोड़ पौधे लगाएंगे। पौध रोपण का यह भी दुनिया में बड़ा अभियान होगा। उन्होंने कहा कि इस अभियान में शासकीय, अशासकीय, सामाजिक, धार्मिक, सांस्कृतिक सहित सभी संस्थाओं के लोग तथा आमजन शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि व्यापक स्तर पर किए गए वृक्षारोपण के कुछ वर्षो बाद सार्थक परिणाम देखने मिलेंगे। उन्होंने बताया कि किसानों को अपने खेत पर वृक्षारोपण करने के लिए 20 हजार रूपए प्रति हैक्टेयर के मान से प्रदान किए जाएंगे। उन्होंने यह भी बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नर्मदा तट के नगरों के डीपीआर तैयार करने के निर्देश दिए हैं। शीघ्र ही बजट आवंटित कर नगरों के दूषित जल को ट्रीटमेंट कर सिंचाई के लिए उपयोग में लाया जाएगा। वन मंत्री डॉ शेजवार ने नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान तथा यात्रा के बाद भी नर्मदा तटीय क्षेत्रों में स्वच्छता बनाए रखने की बात कही। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी के घाटों पर कुण्ड बनाकर पूजन सामग्री डाली जाए, ताकि नर्मदा में अपशिष्ट पदार्थ न मिलने पाएं। उन्होंने यह भी कहा कि मुक्तिधामों में ही दाह संस्कार करने के लिए लोगों को प्रेरित किया जाए तथा खारी विसर्जन नर्मदा के तट पर कुण्ड बनाए जाएं। उन्होंने कहा कि नशामुक्ति तथा सामाजिक कुरीतियों को दूर करने के लिए जनजागरूकता लाई जाए। उन्होंने नर्मदा तट के सभी गांवों को शीघ्र ओडीएफ करने के निर्देश भी दिए।

Shares