दिवाली 2017: जानिए क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त

आज दिवाली है. आज के दिन मां लक्ष्‍मी भगवान गणेश के पूजन की परंपरा है. कहा जाता है कि आज रात मां लक्ष्‍मी स्‍वयं धरती पर आती हैं. इसलिए उन्‍हें जो खुश कर लें उनके घर पूरे साल तक रहती हैं.

इस बार दिवाली पर पूजा का विशेष मुहूर्त है. अगर आप शुभ समयकाल में पूजा करते हैं तो आपको जरूर पूजा का फल मिलेगा.

कब तक दिवाली

पंडित बताते हैं कि इस बार दिवाली सूर्योदय के पूर्व ही आरंभ हो जाएगी. रात 12 बजकर 42 मिनट तक अमावस्‍या तिथि रहेगी.

दिवाली पूजन करते समय जरूर रखें इन 10 बातों का ध्यान…

किस नक्ष्‍ात्र में

इस बार दीपावली हस्त उपरांत चित्रा नक्षत्र में है. पंडित इस योग को परम शुभ मान रहे हैं. इसे कार्यसिद्धि दायक योग भी कहा जा रहा है.

देश के इस हिस्से में दीपावली पर नहीं होती लक्ष्मी पूजा, जानें किसे पूजते हैं लोग

दिवाली पूजन का सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त

 

#1) चौघाडिया के मुताबिक

-विद्यार्थियों के लिए – सुबह 06.29 से 07.54 तक

-व्यापारियों के लिए – दोपहर 12.01 से 01.28 तक

-डॉक्टर व पेशेवर लोगों के लिए – दोपहर 01.28 से 02.56 तक

-किसान और कामगारों के लिए – 04.22 से 05.56 तक

-गृहस्थ और व्यापारियों के लिए – 05.56 से 07.31 तक

-व्यापारियों के लिए रात 12.16 से 01.51 तक

#2) लग्न के अनुसार दिवाली सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त

-शाम 6.22 से 8.00 बजे वृषभ लग्न

-रात 7.26 से 9.24 बजे सिंह लग्न

-रात 1.50 से 04.02 बजे तक

 

पूजन की थाली में इन चीजों को शामिल करें

सभी गृहस्थ, कमल, श्वेत पुष्प को पूजा की थाली में जरूर रखें. इसी तरह किसान पांच तरह के खाद्य पदार्थ का नैवेद्य, व्यापारी – कमलगट्‌टा की माला विद्यार्थी धर्मग्रंथ, अनार और तिल को पूजा की थाली में रखें. पहले गणेश फिर लक्ष्मी और इसके बाद कुबेर की पूजा करें.

घर की खुशहाली के लिए इस बार मुख्य दरवाजे पर जरूर करें ये 5 उपाय

ऐसे करें मां लक्ष्मी का पूजन

मां लक्ष्मी की पूजा सफेद या गुलाबी वस्त्र पहनकर करनी चाहिए.इनकी पूजा का उत्तम समय होता है- मध्य रात्रि.मां लक्ष्मी के उस प्रतिकृति की पूजा करनी चाहिए, जिसमें वह गुलाबी कमल के पुष्प पर बैठी हों. साथ ही उनके हाथों से धन बरस रहा हो.

मां लक्ष्मी को गुलाबी पुष्प, विशेषकर कमल चढ़ाना सर्वोत्तम रहता है.मां लक्ष्मी के मन्त्रों का जाप स्फटिक की माला से करने पर वह तुरंत प्रभावशाली होता है.

,
Shares