जानिए क्या है US शटडाउन, क्या दिवालिया होने जा रहा अमेरिका?

अमेरिका में बड़ा आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। स्थिति यह है कि अगर एक अहम आर्थिक विधेयक दोनों सदनों में पारित नहीं हुआ तो ‘शटडाउन’ की नौबत आ जाएगा यानी कई सरकारी विभाग बंद करना पड़ेंगे और लाखों कर्मचारियों को बगैर वेतन के घर बैठना पड़ेगा। कुल मिलाकर अर्थव्यवस्था को बड़ा नुकसान हो सकता है। पांच साल में दूसरी बार ऐसी स्थिति बनने के बाद आशंका जताई जा रही है कि क्या अमेरिका दिवालिएपन की ओर बढ़ रहा है। एक नजर इससे जुड़ी जरूरी बातें पर –

क्या है अमेरिकी शटडाउन: अमेरिका में एंटीडेफिशिएंसी एक्ट लागू है। इसके मुताबिक, पैसे की कमी होने पर संघीय एजेंसियों को अपना कामकाज रोकना पड़ता है। बजट न होने के कारण कर्मचारियों की छुट्टी कर दी जाती है और उन्हें वेतन भी नहीं दिया जाता। इस स्थिति में सरकार संघीय बजट लाती है, जिसे प्रतिनिधि सभा और सीनेट, दोनों में पारित कराना जरूरी होता है।

पहली बार नहीं: अमेरिकी इतिहास में 1981, 1984, 1990, 1995-96 और 2013 में ऐसा हो चुका है। तब अमेरिका के पास खर्च करने के लिए पैसा नहीं बचा था। आखिरी सरकारी शटडाउन अक्टूबर 2013 में हुआ था, जो दो हफ्तों तक चला था और 8 लाख कर्मचारियों को इस दौरान घर बैठना पड़ा था। तब बराक ओबामा राष्ट्रपति थे।

अभी क्या स्थिति है: ट्रंप सरकार यह संकट टालने की भरकस कोशिशों में जुट गई। आर्थिक मंजूरी प्रदान करने वाला विधेयक प्रतिनिधि सभा में पारित हो गया है, लेकिन ऊपरी सदन सीनेट में पारित होना बाकी है। अगर यह विधेयक सीनेट से पारित नहीं हुआ तो आर्थिक मंजूरी के अभाव में देश में सरकारी कामकाज ठप हो जाएगा।

आगे क्या होगा: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पास स्थानीय समयानुसार शुक्रवार मध्यरात्रि तक का समय है। अगर यह बिल सीनेट में पारित नहीं हुआ तो शटडाउन नहीं टाला जा सकेगा। अभी अमेरिकी प्रशासन में 35 लाख कर्मचारी हैं। शटडाउन होने पर साढ़े आठ लाख कर्मचारी पहले ही दिन से घर बैठ जाएंगे। जहां-जहां सैन्यकर्मियों की ड्यूटी लगी है, उन्हें नहीं हटाया जाएगा।

,
Shares