जम्मू-कश्मीर की पंचायतों में पहली बार सरपंचों ने फहराया तिरंगा

जम्मू,। जम्मू-कश्मीर से धारा 370 व 35ए हटाए जाने के बाद राज्यपाल सत्यपाल मलिक के निर्देश पर इस बार भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर जम्मू-कश्मीर की पंचायतों में भी सरपंचों ने तिरंगा फहराया। इसी बीच जम्मू से लेकर लेह तक स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रमों की धूम रही। यह पहला अवसर था कि जब पंचायतों में भी तिरंगा फहराया गया।

राज्य का मुख्य समारोह श्रीनगर के शेर-ए-कश्मीर क्रिकेट स्टेडियम में हुआ जिसमें राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने तिरंगा फहराया और परेड की सलामी ली। श्रीनगर में इस दौरान सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए थे। जम्मू में मुख्य समारोह मिनी स्टेडियम परेड में हुआ। यहां राज्यपाल के सलाहकार फारूक खान ने तिरंगा फहराया। एक विधान, एक निशान और एक प्रधान का श्यामा प्रसाद मुखर्जी का सपना साकार होने की खुशी में भाजपा कार्यकर्ताओं में काफी उत्साह दिखा। लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने से लेह में स्वतंत्रता दिवस समारोह की अच्छी खासी घूम रही। जम्मू शहर के गली, मोहल्लों, चौहरों में हर जगह स्वतंत्रता दिवस की धूम दिखी और तिरंगा फहराने के कार्यक्रम हुए।
जिला सांबा में रानी सुचेत सिंह स्टेडियम में डिप्टी कमिश्नर रोहित खजुरिया ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया। इसी तरह राजौरी, पुंछ, डोडा, किश्तवाड़, भद्रवाह, रियासी, ऊधमपुर, कटड़ा के दूरदराज इलाकों में भी स्वतंत्रता दिवस धूमधाम से मनाया गया। लोगों में आजादी के जश्न को लेकर काफी उत्साह नजर आया। जम्मू-कश्मीर राज्य पुनर्गठन बिल संसद में पारित हो गया है और 31 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर और लद्दाख अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बन जाएंगे।
,
Shares