…जब लोकसभा में लगे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे

कुलभूषण जाधव मसले पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संसद के दोनों सदनों में बयान दिया. पहले राज्यसभा और उसके बाद लोकसभा में सुषमा ने एक-एक कर पाकिस्तान के झूठ को बेनकाब किया. सुषमा जब लोकसभा में जाधव मसले पर बयान दे रही थीं, उस दौरान लोकसभा में ‘पाकिस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लगे. कई सांसद पाकिस्तान की इस हरकत पर नारेबाजी कर रहे थे.

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के परिवार के साथ की गई बदसलूकी से पूरा देश आगबबूला है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस मुद्दे पर संसद में बयान दिया. राज्यसभा में अपने संबोधन में करते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि कुलभूषण जाधव के परिवार की मुलाकात राजनयिक कोशिशों से हुई थी.

सरकार ने जाधव मामले को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में पेश किया, जिसके बाद उनपर जारी किए गए फांसी के फैसले को टाल दिया गया है. मुश्किल की घड़ी में सरकार परिवार के साथ है, हमने परिवार के सदस्यों की जाधव से मिलने की इच्छा को पूरा किया.

ये खेद का विषय है कि मुलाकात में इस तरह का व्यवहार किया. सुषमा ने कहा कि पाकिस्तान ने इस मुलाकात को प्रोपेगेंडा बनाया. जाधव की मां सिर्फ साड़ी पहनती हैं, उनके भी कपड़े भी बदलवा दिए गए. मीडिया को मां और पत्नी के नजदीक आने दिया गया, जो हमारी शर्तों के खिलाफ था.

मुलाकात से लौटने के बाद मां-पत्नी ने बताया कि कुलभूषण दबाव में हैं. उनके कैद करने वालों ने जो उन्हें बोलने के लिए कहा था जाधव सिर्फ वही बोल रहे थे. पाकिस्तान जाधव की मां-पत्नी के जूतों के साथ कुछ शरारत कर सकता है. इस मीटिंग में सिर्फ मानवाधिकार के नियमों का उल्लंघन ही हुआ है.कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के बयान का समर्थन किया. उन्होंने कहा कि जाधव पर जो भी आरोप लगाए गए हैं, वो झूठे और फर्जी हैं. पाकिस्तान में कोई लोकतंत्र नहीं है, हम पाकिस्तान को अच्छी तरीके से जानते हैं. जाधव की मां-पत्नी के साथ जो भी हुआ है, वो अपमान पूरा देश का है. कांग्रेस के अलावा अन्य सभी पार्टियों ने भी सरकार के बयान का समर्थन दिया.

Shares