ग्राम मोतल सिरि से हुई नर्मदा सेवा यात्रा के 103वें दिन की शुरुआत


भोपाल, 30 मार्च । नमामि देवी नर्मदा सेवा यात्रा अपने उद्देश्य में सफल होते हुए निरंतर आगे बढ़ रही है। गुरुवार को सुबह नौ बजे मां नर्मदा की पूजा-अर्चना के बाद यात्रा के 103वें दिन का शुभारंभ रायसेन जिले के ग्राम मोतल सिरि से हुआ। यात्रा इस गांव से शुरू होकर गुरुवार को जिले के ग्राम किवली, सेमरीघाट, बगलवाड़ा, सतरावन, मुआर होते हुए शाम को डुमर घाट पिपरिया पहुंचेगी, जहां शाम को जनसंवाद कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा, साथ ही रात्रि विश्राम से पहले गांव में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। नर्मदा नदी के संरक्षण को लेकर शुरू की गई नर्मदा सेवा यात्रा गुरुवार को सात गांवों का भ्रमण करेगी। इस दौरान मार्ग में पड़ने वाले ग्रामों में वृक्षारोपण किया जाएगा। प्रदूषण के कारण नर्मदा नदी को हो रही क्षति के बारे में ग्रामीणों से संवाद किया जाएगा। रात्रि विश्राम घाट पिपरिया में होगा। यहां पर मां नर्मदा पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे।बता दें कि नर्मदा नदी के उत्तरी तट पर इन दिनों चल रही नर्मदा सेवा यात्रा से ग्रामीणों विशेषकर युवाओं में जल और पर्यावरण संरक्षण के प्रति चेतना बढ़ी है। लोगों का कहना है कि जिस तरह पर्यावरण को नुकसान पहुंच रहा है तथा भूमिगत जल का भी अन्धाधुंध दोहन हुआ है, इसी का परिणाम है कि फागुन और चेत में जेठ जैसी गरमी पड़ रही है। लोगों ने अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिये पर्यावरण से गम्भीर छेड़छाड़ की है। हम आने वाली पीढ़ी के लिये अच्छा पर्यावरण दे सकें, यह कोशिश होनी चाहिए। वहीं, युवाओं में नर्मदा यात्रा के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण के प्रति समझ बढ़ी है। न केवल पौधे लगाकर बल्कि बरसात के मौसम में पानी को रोककर जल संरक्षण के लिये भी अपना योगदान देगें।

Shares