खराब तिमाही परिणाम से फीका पड़ा बाजार, 61 अंक गिरा सेंसेक्स

विदेशी बाजारों के मिले-जुले रुझान और घरेलू स्तर पर फ्यूचर रिटेल, भेल, टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी दिग्गज कंपनियों के खराब वित्तीय परिणाम से हतोत्साहित निवेशकों की बिकवाली से शुक्रवार को शेयर बाजार पिछले दो सत्र की तेजी खोकर गिरावट पर बंद हुआ।

बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 61.74 अंक अर्थात 0.22 प्रतिशत गिरकर 28236.39 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 24.05 अंक यानि 0.28 प्रतिशत उतरकर 8564.60 अंक पर बंद हुआ। देश की सबसे बड़ी रिटेल कंपनी फ्यूचर रिटेल का एकल शुद्ध मुनाफा चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 92 प्रतिशत, विद्युत क्षेत्र के लिए भारी उपकरण बनाने वाली सरकारी कंपनी भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) का 82.5 प्रतिशत, वाहन बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी टाटा मोटर्स का 49 प्रतिशत और महिंद्रा एंड महिंद्रा का 19 प्रतिशत लुढ़क गया। इससे निवेशकों की निवेश धारणा कमजोर होने से बाजार पर दबाव देखा गया।

इसके अलावा शुक्रवार को अमेरिका में जारी होने वाले रोजगार आंकड़े के प्रति निवेशकों की सतर्कता भी सेंसेक्स और निफ्टी की गिरावट का करण बना। विदेशी बाजारों में मिलाजुला रुख रहा। ब्रिटेन का एफटीएसई 0.04 प्रतिशत और दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.15 प्रतिशत उतर गया, जबकि जापान का निक्की 0.29 प्रतिशत, हांगकांग का हैंगसैंग 0.73 प्रतिशत और चीन का शंघाई कंपोजिट 2.26 प्रतिशत चढ़ गया।

इस दौरान ऑटो, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स और तेल एवं गैस समूह की 1.97 प्रतिशत की बढ़त को छोड़कर बीएसई के 13 में से 10 समूहों के शेयर टूटे। आईटी, एफएमसीजी, टेक, हेल्थकेयर, रियल्टी, पीएसयू, कैपिटल गुड्स, बैंकिंग, धातु और  पावर समूह के शेयरों में 0.04 प्रतिशत से 1.47 प्रतिशत तक की गिरावट दर्ज की गई।

बीएईस में कुल 3041 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें से 1542 नुकसान में और 1380 फायदे में रहे जबकि 119 में स्थिरता रही। एनएसई में कुल 1344 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें से 752 गिरावट पर और 552 बढ़त पर रहे जबकि 40 में कोई बदलाव नहीं हुआ।

Shares