एंटी गाइडेड मिसाइल से तबाह किए पाकिस्तान के कई बंकर

जम्मू-कश्मीर के नौशेरा में आज (8 मई) पाकिस्तान ने फिर सीजफायर का उल्लंघन किया, जिसका भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया। भारतीय सेना ने पाकिस्तान के कई बंकर तबाह कर दिए हैं। न्यूज चैनल टाइम्स नाऊ की रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय सेना ने एंटी गाइडेड मिसाइल से पाकिस्तानी चौकियों पर हमला कर उन्हें ध्वस्त कर दिया है। इस हमले का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें दिख रहा है कि भारतीय सेना ने करीब 7 मिसाइलों के जरिए इन बंकरों पर हमला किया है।

इस महीने पाकिस्तान ने कई बार एलओसी पर सीजफायर का उल्लंघन किया है। 1 मई को पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर के पुंछ में भारतीय चौकियों पर गोलीबारी और मोर्टार से हमला किया था, जिसमें दो भारतीय जवान शहीद हो गए थे। बीएसएफ ने बताया था कि पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम यानी बैट ने जवानों के शवों के साथ बर्बरता की थी। हालांकि पाकिस्तानी सेना ने शवों से बर्बरता की बात मानने से इनकार कर दिया था और एलओसी पर सीजफायर उल्लंघन के सबूत मांगे थे। इस मामले को लेकर पूरे देश में नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना की गई थी। एलओसी पर तनाव को कम करने के लिए दोनों देशों के डीजीएमओ के बीच बातचीत भी हुई थी। इसके बाद भारत ने जवाबी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान की दो चौकियों को तबाह कर दिया था, जिसमें उनके 7 जवान मारे गए थे।

बता दें कि पाकिस्तान की ओर से फायरिंग में शहीद हुए नायब सूबेदार परमजीत सिंह का पार्थिव शरीर हेलिकॉप्टर से तरन-तारन लाया गया था, जहां उनके गांव में उनका अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान सरकार की ओर से कोई भी अधिकारी या मंत्री मौजूद नहीं था। इससे पहले उनकी शव यात्रा रोककर उनके परिवार ने शव देखने की मांग उठाई थी। एएनआई के मुताबिक उनके परिवारीजनों ने कहा था, यह किसका शव है, ये ताबूत के पीछे है। हमें शव देखने क्यों नहीं दिया जा रहा है। बाद में समझाने पर उनके परिवारीजन अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए थे।

दूसरी ओर शहीद प्रेम सागर की बेटी ने पिता की शहादत के बदलने 50 सिरों की मांग की थी। उनकी बेटी सरोज ने कहा था, “प्रशासन की ओर से पिता (प्रेम सागर) की मौत की कोई जानकारी नहीं दी गई। पिता की कुर्बानी के बदले 50 पाकिस्तानी सैनिकों के सिर चाहिए।” इसके बावजूद पाकिस्तान ने 3 मई को पुंछ जिले के मनकोट में भारतीय चौकियों पर गोलीबारी की थी, जिसका बीएसएफ ने मुंहतोड़ जवाब दिया था।

Shares