इस बार गेहूं उपार्जन में तीन हजार केन्द्रों से होगी खरीदी

भोपाल, 02 मार्च । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा आज मंत्रालय में गेहूं उपार्जन की तैयारियों की समीक्षा की गई। बताया गया कि इंदौर एवं उज्जैन संभाग में 15 मार्च से गेहूं उपार्जन कार्य प्रारम्भ हो जायेगा। भोपाल एवं नर्मदापुरम में 20 मार्च से और चंबल, ग्वालियर, रडोल, जबलपुर और सागर संभाग में 27 मार्च से समर्थन मूल्य पर गेहूं-खरीदी प्रारम्भ हो जायेगी। इस अवसर पर मुख्य सचिव बी.पी. सिंह भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गेहूं खरीदी की समस्त व्यवस्थाएँ किसान-हित के अनुसार की जायें। किसान-हितों का संरक्षण सरकार की जवाबदारी है। उन्होंने कहा कि खरीदी कार्य संचालन व्यवहारिक दृष्टिकोण के साथ किया जायें। किसानों की आवश्यकताओं और अपेक्षाओं को पूरा करने पर दृष्टिकोण केन्द्रित रहना चाहिये। उन्होंने कहा कि उपार्जन-अवधि में किसान-परिवारों में वैवाहिक कार्यक्रम आदि का आयोजन होता है। इसलिये भुगतान संबंधी व्यवस्थाओं की समय-सीमा का अक्षरक्ष: पालन करवाया जाये। उन्होंने कहा कि किसानों को पंजीयन करवाने का एक और अवसर दिया जाये ताकि पात्र किसान छूटें नहीं। बारदानों की अग्रिम उपलब्धता सुनिश्चित की जायें। उन्होंने बारदाना आपूर्ति की नियमित मानीटरिंग करने को कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि उपार्जित गेहूं परिवहन की व्यवस्थाएँ प्रभावी हों तथा रूट का निर्धारण युक्तिसंगत हों। ट्रांसपोर्टर का एकाधिकार नहीं हो। क्षमता का परीक्षण कर ही कार्य सौंपा जाये। मुख्यमंत्री ने किसानों के पंजीयन, उपार्जन केन्द्रों की व्यवस्था, उपार्जित गेहूं के परिवहन, भंडारण और भुगतान की व्यवस्थाओं की समीक्षा की। बताया गया कि इस वर्ष गेहूं उपार्जन के लिए विगत सात वर्ष में सर्वाधिक 2,963 केन्द्र बनाए गए हैं। खरीदी 1625 रुपये प्रति क्विंटल मूल्य पर की जाएगी। उपार्जन समितियों द्वारा अधिकतम तीन दिवस में किसानों को भुगतान किया जाएगा।

Shares