इंदोर: पत्नियों के हाथों हर सप्ताह 5 पति पिट जाते हैं,

भोपाल। डायल 100 के रिकॉर्ड से एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। इंदौर एवं भोपाल में पत्नियां भी पतियों की पिटाई कर रहीं हैं। भोपाल और इंदौर के बीच केवल स्वच्छता के मामले में नंबर 1 और नंबर 2 का रिश्ता नहीं है बल्कि पतियों की पिटाई के मामले में भी इंदौर नंबर 1 और भोपाल नंबर 2 पर है। इतना ही नहीं पत्नियों की पिटाई भी इंदौर में सबसे ज्यादा और भोपाल में दूसरे नंबर पर होती है।

अब तक माना जाता था कि घरेलू हिंसा के मामलों में पत्नियां ही पीड़ित होती हैं और पति हमलावर, लेकिन डायल 100 की रिपोर्ट के अनुसार पत्नियां भी पतियों को पीट रहीं हैं। ये आंकड़ा तब सामने आया, जब डायल 100 की टीम ने ‘बीटिंग हस्बैंड’ टाइटल के साथ एक नई कैटेगरी तैयार की। अब तक ये आंकड़े डोमेस्टिक वायलेंस कैटेगरी में शामिल किए जाते थे। दिसंबर महीने में बीटिंग हस्बैंड इवेंट और बीटिंग वाइफ इवेंट की कैटेगरी को डोमेस्टिक वायलेंस से अलग किया गया। नतीजा ये रहा कि जनवरी 2018 से अप्रैल 2018 तक डायल 100 के स्टेट लेवल कंट्रोल रूम में 772 पति घर में अपनी पिटाई की शिकायत दर्ज करवा चुके हैं। इनमें सबसे ज्यादा इंदौर के पति हैं, जिनकी संख्या 74 है, जबकि भोपाल के 52 पतियों ने यहां फोन कर अपनी परेशानी बताई है।

पत्नियां की पिटाई में भी इंदौर नंबर 1, भोपाल नंबर 2

इस कंट्रोल रूम में इन चार महीनों में पत्नी से मारपीट की 22 हजार शिकायतें दर्ज हुई हैं। इस कैटेगरी में भी इंदौर 2115 शिकायतों के साथ सबसे आगे है, जबकि 1546 शिकायतें राजधानी की महिलाओं ने दर्ज करवाई हैं। इसके बाद जबलपुर, ग्वालियर और छिंदवाड़ा की महिलाओं ने सबसे ज्यादा शिकायतें दर्ज करवाई हैं।

,
Shares